नैनीताल: बच्चों की सुरक्षा और मदद के लिए डीएम ने जारी किया 1098 हैल्प लाइन नंबर

नैनीताल: महिला एवं बाल विकास मंत्रालय के सहयोग से संचालित विमर्श चाइल्ड लाइन जिला सलाहकार बोर्ड की बैठक मंगलवार को जिला सभागार मे जिलाधिकारी विनोद कुमार सुमन की अध्यक्षता मे सम्पन्न हुई। बैठक में बोर्ड नामित पदाधिकारियों द्वारा भी प्रतिभाग किया गया।

WARTS की परेशानी मिलेगा निजात, जरूर देखे साहस होम्योपैथिक टिप्स

बैठक मे जिलाधिकारी सुमन ने कहा कि महिला एवं बाल विकास मंत्रालय के आर्थिक सहयोग से संचालित यह कार्यक्रम बच्चों के सवार्गींण विकास के लिए उपयोगी है। उन्होंने कहा कि 18 वर्ष तक के ऐसे बच्चे जिन्हें देखभाल व संरक्षण की जरूरत है वह इस सेवा का लाभ उठा सकते है। उन्होने कहा कि बच्चे हमारे समाज व राष्ट्र की धरोहर हैं। हम सभी का नैतिक दायित्व है कि हम बच्चों की शिक्षा स्वास्थ्य एवं अच्छे संस्कारों के लिए सजग रहें तथा निष्ठाभाव से कार्य करें। उन्होंने बताया कि जनपद नैनीताल मे यह योजना वर्ष 2013 से स्वयं सेवी संस्था विमर्श द्वारा संचालित की जा रही है। प्रदेश के 10 जिलों में यह योजना कार्यरत है। भारत के 400 से अधिक जिलों में 700 पार्टनर संस्था के साथ यह सेवा गतिमान है। उन्होंनेे कहा कि इस कार्यक्रम के अन्तर्गत चाइल्ड हैल्प लाइन 1098 निर्धारित किया गया हेै, हैल्प लाइन सेवा 24 घन्टे कार्यरत है। इसमें बच्चा स्वयं फोन कर सकता है, या बच्चे की सुरक्षा हेतु कोई भी व्यक्ति फोन कर सकता है। उन्होंने बताया कि चाइल्ड लाईन द्वारा चिकित्सकीय सहयोग, शोषण एवं दुव्यवहार से बचाव, आश्रय या पुनर्वासन, गुमशुदा बच्चो की खोजबीन, भावनात्मक सहायता व मार्गदर्शन तथा कानूनी सहयोग दिया जाता है।

जिलाधिकारी सुमन ने विमर्श संस्था की निदेशक कंचन भण्डारी से कहा कि वह 1098 का व्यापक एवं ग्रामीण स्तर पर प्रचार प्रसार करायें, वाटसएप व अन्य सोशल मीडिया के माध्यम से इस महत्वपूर्ण कार्यक्रम की जानकारी जनसाधारण को पहुंचायें। इसके साथ ही बोर्ड के सभी सदस्य पूरी निष्ठा व तत्परता से इस महत्वपूर्ण कार्य को टीम भावन के साथ सम्पन्न करें। उन्होंने संस्था सदस्यों से कहा कि वह जनपद के विद्यालयों मे जाकर गोष्ठिया आयोजित कर सक्सेस स्टोरी से छात्र-छात्राओं को मध्य कार्यक्रम आयोजित करें ताकि बच्चे चाइल्ड हैल्प लाइन सेवा के प्रति जागरूक होें तथा इस सेवा का सदुपयोग कर सके।