भीमताल मार्ग पर जलने वाली कार में था पुरुष का कंकाल, ये है पुलिस का अगला कदम

हल्द्वानी: भीमताल-हल्द्वानी मार्ग ( सलड़ी) में कार जलने वाली घटना में पुलिस को बड़ा सुराग मिला है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट के सामने आने के बाद ये साफ हो गया है कि कार के जलने के बाद बरामद हुआ कंकाल पुरुष का था। पुलिस को अब शक है कि व्यक्ति की हत्या करने के बाद उसे यहां पर जला दिया गया होगा। घटना के एक दिन बाद ही पुलिस ने पता लगा लिया था कि ये कार रुद्रपुर निवासी अवतार सिंह की है।

घटना के बाद से अवतार सिंह गायब है। ये भी मुमकिन है कि ये शव अवतार सिंह का ही हो। इसकी पुष्टि के लिए पुलिस लापता कार स्वामी अवतार सिंह की मां नक्षत्रो देवी के डीएनए से कंकाल का डीएनए मिलान कराएगी।  इस घटना ने पूरे जिले को हिला कर रख दिया है। मामले के खुलासे के लिए भीमताल, काठगोदाम के साथ ही कोतवाली हल्द्वानी व एसओजी को भी लगाया गया है।

अवतार सिंह की पत्नि नीलम ने पुलिस को बताया था कि गुरुवार को अवतार सिंह उन्हें दिखाने के लिए हल्द्वानी आए थे। इसके बाद काम की बात बोलकर वो पहाड़ की तरफ निकल गए और मैं बस से रुद्रपुर आ गई। उसके बाद से उनका नंबर बंद आ रहा है।

शनिवार को अंबाला से अवतार के पिता गुलजार सिंह व बड़े भाई जगतार सिंह हल्द्वानी पहुंच गए। इसके बाद दोपहर में कंकाल का पोस्टमार्टम कराया गया।  मुताबिक पोस्टमार्टम में कंकाल के पुरुष का होने के साथ ही हत्या कर शव जलाने की भी पुष्टि हो गई है। पोस्टमार्टम में संकेत मिले हैं कि कार को आग के हवाले करने से पहले ही उसमें जले पुरुष की मृत्यु हो चुकी थी।

पुलिस को कंकाल अवतार सिंह का ही होने की आशंका है। अवतार के नाम से ही कंकाल का पंचनामा भरा गया है। हालांकि अब भी पुलिस नियमों का पूरी तरह पालन कर रही है। चूंकि कंकाल अवतार का होने की पुष्टि डीएनए के बाद होगी। किसी भी अज्ञात शव की 72 घंटे तक इंतजार के बाद ही अंत्येष्टि करने का नियम है। पुलिस भी कंकाल की इस समयावधि के बाद ही अंत्येष्टि की इजाजत दे रही है।

कंकाल मोर्चरी में सुरक्षित रखा है। अवतार के परिवार की मानें तो उनकी हत्या कर दी गई है। इस मामले में शामिल आरोपियों के खिलाउफ सख्त कार्रवाई होनी चाहिए। अवतार सिंह का मूल घर अंबाला में घसीटपुर में है। पिता गुलजार सिंह व बडे़ भाई जगतार सिंह ने अवतार की हत्या होने व कंकाल उसी का होने की आशंका जताई है। हालांकि परिवार वालों का कहना है कि अवतार का परिवार या बाहर किसी से विवाद नहीं था। वह हमेशा खुश रहने वाले और मेहनत से काम करते थे।