कुत्ते की वफादारी, यू बचाई 35 लोगों की जान लेकिन खुद की चले गई जान

नई दिल्ली: कुत्ते को सबसे ज्यादा वफादार कहा जाता है। वह खुद से ज्यादा अपने साथ रह रहे परिवार को प्यार करता है। इसलिए घर पर कुत्ते को रखने वाले लोग उसे अपने परिवार का हिस्सा मानते हैं। एक बार फिर इस जीव ने अपनी जान को निछावर कर 35 लोगों की जान बचाई।

मामला उत्तर प्रदेश में बांदा जिले के अतर्रा कस्बे में लखन कॉलोनी का है। जहां बीच बस्ती में चल रहे बहुमंजिला इमारत के फर्नीचर शो रूम में गुरुवार आधी रात को बिजली के शॉर्ट सर्किट से लगी आग लग गई। इस हादसे में करीब पांच करोड़ रुपये का सामान जलकर राख हो गया। आग की वजह से गैस सिलिंडर में हुए विस्फोट हुआ और पड़ोस के चार पक्के मकान भी इसकी चपेट में आ गए।हालांकि शोरूम मालिक के पालतू कुत्ते ने भौंक कर 35 लोगों की जान बचा ली, मगर वह खुद मारा गया।

फर्नीचर शोरूम मालिक राकेश चौरसिया ने जानकारी दी कि फर्नीचर का शोरूम वह अपने निजी बहुमंजिला इमारत में चला रहे थे। गुरुवार आधी रात बिजली के शॉर्ट सर्किट से उस समय आग लगी, जब सभी लोग गहरी नींद में थे। आग लगने के बाद पालतू कुत्ते ने भौंकना शुरू किया और इससे उनकी नींद खुल गई। इसके बाद पड़ोसियों सहित करीब 35 लोग बाहर निकल आए, लेकिन बंधा होने की वजह से कुत्ता झुलस गया और उसकी मौत हो गई।’


उन्होंने बताया, ‘इसी बीच मकान में रखे घरेलू गैस सिलिंडर में विस्फोट हो गया, जिससे पड़ोस के चार पक्के मकान भी ध्वस्त हो गए हैं।’ अतर्रा तहसीलदार सुशील सिंह ने बताया, ‘यह शोरूम बिना पंजीयन के रिहाशी बहुमंजिला इमारत में चल रहा था और अब तक की जांच में आग से बचाव के कोई उपकरण नहीं पाए गए।’  उन्होंने बताया, ‘अग्निकांड में करीब पांच करोड़ रुपए का नुकसान हुआ होगा, आंकलन कराया जा रहा है। साथ ही बिना पंजीयन शोरूम संचालित करने पर मालिक के खिलाफ पुलिस में प्राथमिकी भी दर्ज कराई जाएगी।’