खेलों में भी था जेटली का बड़ा मान, सलामी बल्लेबाज को शादी के लिए दिया था अपना घर

नई दिल्ली: पूर्व वित्तमंत्री अरुण जेटली शनिवार को चल बसे। वो काफी वक्त से बीमार थे। उन्होंने अंतिम सांस एम्स में ली। रविवार को राजकीय सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार किया। जेटली के निधन पर पूरे देश ने उन्हें श्रद्धांजलि दी। अरुण जेटली का कद केवल राजनीति में ही नहीं बल्कि खेल में भी काफी बड़ा था। वो 1999 से 2013 तक डीडीसीए के अध्यक्ष रहे थे।

अपने कार्यकाल में उन्होंने दिल्ली के कई खिलाड़ियों की नेशनल लेवल पर वकालत भी की और शायद इसी कारण से दिल्ली के खिलाड़ी भारतीय क्रिकेट टीम का हिस्सा रहे। जेटली का सम्मान उनके राजनीति कौशल के अलावा एक इंसान के रूप में भी होता था। कल हमने आपको रजत शर्मा के साथ एक वाक्य की कहानी बताई थी, जिसमें अरुण जेटली ने उनकी मदद की थी और उन्हें कॉलेज में दाखिला मिला था।

max face clinic haldwani

इसी तरह से अरुण जेटली ने भारतीय टीम के पूर्व सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग की उनकी शादी के लिए मदद की थी। अरुण जेटली क्रिकेट और क्रिकेटरों के काफी करीब थे। खिलाड़ियों की भी अरुण जेटली से काफी बनती थी। नजफगढ़ के नवाब वीरेंद्र सहवाग की शादी भी अरुण जेटली के बंगले के सरकारी बंगले से हुई थी।

सहवाग और आरती की शादी हरियाणवी स्टाइल में ही हुई थी। इस शादी में किसी भी मीडिया कर्मी को एंट्री नहीं मिली थी, वहीं शादी में आए मेहमानों को कार्ड देने के बाद ही अंदर जाने दिया गया था। सहवाग ने साल अप्रैल 2004 में आरती से शादी की थी।

अरुण जेटली उस दौरान वाजपेयी सरकार में कानून मंत्री थे। उस दौरान जेटली का निवास नई दिल्ली 9 अशोका रोड हुई करता था। सहवाग की शादी में न खुद जेटली ने अपने पूरे स्टाफ को लगाया था बल्कि कैटरिंग की व्यवस्था खुद की थी। उस दौरान सरकारी बंगले पर ऐसे कार्यक्रम के आयोजन पर पाबंदी भी नहीं थी।

एक बार जेटली पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भ्रष्टाचार के आरोप लगाए थे। इस दौैरान सहवाग से लेकर गंभीर तक जेटली के समर्थन में आ गए थे। सहवाग ने जेटली के समर्थन में ट्विट कर कहा था कि जेटली हमेशा खिलाड़ियों के लिए खड़े रहते थे और मुश्किल परिस्थिति में हमेशा उनकी सहायता करते थे।

यह भी पढ़ें: 2 हफ्ते बाद दिल्ली में मिला हल्द्वानी का दिव्यांशु, नाराज होकर उठाया था ये कदम

यह भी पढ़ें:आर्यन जुयाल का भारतीय अंडर-23 में चयन, पिता ने कहा बेटे को गोरे से काला होते देखा

यह भी पढ़ें:विजय हजारे ट्रॉफी, शुरू हुई ट्रायल प्रक्रिया, हल्द्वानी में उपलब्ध हुए पंजीकरण फॉर्म

यह पढ़ें:हल्द्वानी: मरीजों की परेशानी का डीएम बंसल ने खोजा तोड़, जारी होगा हेल्पलाइन नंबर