बाबा रामदेव और आचार्य बालकृष्ण के खिलाफ केस दर्ज,देश को धोखा देने का आरोप

बाबा रामदेव और आचार्य बालकृष्ण के खिलाफ केस दर्ज,देश को धोखा देने का आरोप

नई दिल्ली: कोरोना वायरस की दवा को लेकर पूरी दुनिया में रिसर्च चल रहा है। जल्द से जल्द इस बीमारी को हराने के लिए यंत्र खोजा जा रहा है ताकि धरती में रह रहे इंसानों को नया जीवन मिले। इसी बीच पतंजलि ने दावा किया कि उसने कोरोना वायरस को हराने की दवा बना ली है। सोमवार को वो दवा लांच भी की गई लेकिन कुछ ही देर बाद दवा विवादों के घेरे में आ गई। कोरोनिल नाम की दवा पर सरकार सख्त है और उसने पतंजलि को इसके प्रचार-प्रसार पर रोक लगाई।

आयुष मंत्रालय की ओर से कहा गया कि उन्हें इस दवा के बारे में कोई जानकारी नहीं है ना ही वह रिकॉर्ड में हैं। रिपोर्ट्स ये भी बताती है कि पतंजलि ने कोरोना वायरस के संबंध में दवा बनाने के लिए बल्कि इंयुनिटि बुस्टर के लिए अनुमति ली थी। देश के विभिन्न हिस्सों में बाबा और पतंजलि के खिलाफ केस दर्ज होने का सिलसिला शुरू हो गया है।

बिहार में पंतजलि के खिलाफ केस दर्ज

बिहार के मुजफ्फरपुर की एक अदालत में बुधवार को बाबा रामदेव और आचार्य बालकृष्ण के खिलाफ देश को दवा के नाम पर धोखा देने का आरोप लगाते हुए एक परिवादपत्र दायर किया गया है।मुजफ्फरपुर के मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी की अदालत में समाजसेवी और भिखनपुरा निवासी तमन्ना हाशमी ने एक परिवाद पत्र दायर कर पतंजलि विश्वविद्यालय एवं शोध संस्थान के संयोजक स्वामी रामदेव तथा पतंजलि संस्था के चेयरमैन आचार्य बालकृष्ण पर कोरोना वायरस दवा बनाने का दावा कर देश को धोखा देने का आरोप लगाया है। परिवादपत्र में बाबा रामेदव और बालकृष्ण को भादंवि की धारा 420, 120बी, 270, 504/34 के तहत आरोपी बनाया गया है. तमन्ना हाशमी ने बताया कि अदालत ने इस मामले की सुनवाई के लिए 30 जून की तारीख मुकर्रर की है।

Join WhatsApp Group & Facebook Page

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा WhatsApp Group ज्वाइन करें।
Join Now

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा Facebook Page लाइक करें।
Like Now