कंधे पर बेटे की लाश लिए, डेथ सर्टिफिकेट के लिए लगाता रहा गुहार, निकल जाएंगे आंसू

नई दिल्लीः जहां एक ओर देश तरक्की की नई बुलंदियों को छू रहा है। वहीं देश की स्वास्थय सेवाऐं चरमरा चुकी हैं। स्वास्थ्य का अधिकार जनता का सबसे पहला अधिकार होतो है लेकिन देश में बेहतर सवास्थ्य सेवाओं के अभाव में रोजाना हजारों लोगों को दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। वहीं सरकारी अस्पताल का तो भगवान ही मालिक है। ऐसा ही एक बार फिर देखने को मिला नीमगांव में। जहां एक पिता अपने मासूम बेटे की लाश को कंधे पर लेकर अस्पताल में सिर्फ डेथ सर्टिफिकेट गुहार लगाता रहा। लेकिन अस्पताल को उसपर जरा भी तरस नहीं आया।

बता दें कि थाना क्षेत्र नीमगांव के ग्राम रमुआपुर निवासी दिनेश कुमार के दो साल के बेटे दिव्यांशु को तेज बुखार के बाद जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया था। इलाज के दौरान बुधवार को दिव्यांशु की मौत हो गई। इसके बाद जब बेटे के शव को ले जाने की बारी आई तो उसे बताया गया कि डेथ सर्टिफिकेट बनवाना जरूरी है। बिना डेथ सर्टिफिकेट के अस्पताल से छुट्टी नहीं मिलेगी। दिनेश डेथ सर्टिफिकेट बनवाने के लिए अस्पताल में दोड़ता रहा। वह लोगों और अस्पताल स्टाफ से मदद मांगता रहा भी लेकिन किसी ने उसकी मदद के लिए हाथ नही बढ़ाया। काफी कठोर परिश्रम के बाद कहीं जाकर बेटे का डेथ सर्टिफिकेट बन पाया और वह बेटे के शव को घर ले जा सका।

यह भी पढ़ेंः उत्तराखंडः आदमखोर गुलदार ने झपट्टा मार मां की गोद से छीना बच्चा

यह भी पढ़ेंः हल्द्वानी लाइवः रिजॉर्ट में चल रही थी डांस पार्टी, 13 युवक-युवतियां गिरफ्तार

यह भी पढ़ेंः बारिश ने बिगाड़ा उत्तराखण्ड में विजय हजारे ट्रॉफी का रोमांच, अबतक 7 मुकाबले रद्द

यह भी पढ़ेंः हल्द्वानी में डेंगू मचा रहा कोहराम, डेंगू से महिला की मौत, अस्पताल में तोड़ा दम

Join WhatsApp Group & Facebook Page

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा WhatsApp Group ज्वाइन करें।
Join Now

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा Facebook Page लाइक करें।
Like Now