देहरादून:  भारत-अमेरिका के बीच द्विपक्षीय रक्षा सहयोग के तहत दोनों देशों की सेनाओं के बीच संयुक्त युद्धाभ्यास शुरु हो गया है। यह सैन्य प्रशिक्षण रविवार को युद्धाभ्यास उत्तराखंड़ स्थित अल्मोड़ा जिले के चौबटिया में प्रारंभ हुआ। यह संयुक्त सैन्य अभ्यास का 14वां संस्करण है जिसे दोनों देश क्रमश: एक दूसरे के यहां आयोजित करते रहते हैं।

इसका उद्धाटन सेना की मध्य कमान मुख्यालय में भव्य तरीके से हुआ। दोनों देशों ने अपने राष्ट्रगान और ध्वज के साथ इसकी शुरूआत की। इसके बाद निकाले गए मार्चपास्ट में अधिकारियों को सलामी दी गई। मार्च पास्ट का नेतृत्व भारतीय सेना के कमांडर कर्नल एसवी चेरियन और अमेरिका सेना के मेजर जनरल विलियम द्वारा किया गया।

इस ‘युद्ध अभ्यास 2018’ की खासियत ये है कि यह सबसे लंबा चलने वाला है जो 29 सितंबर को समाप्त होगा। इस दौरान दोनों देश पहाड़ी क्षेत्र में आतंकवाद विरोधी और नस्लवाद विरोधी अभियान पर साथ काम कर रहे हैं। दोनों देशों के 350-350 सैनिक इसमें भाग ले रहे हैं। भारतीय सेना की गरुड़ डिवीजन इसमें शामिल हो रही है।

लगभग दो हफ्ते तक चलने वाले इस युद्धाभ्यास में आतंकवाद सहित विभिन्न चुनौतियों से निपटने की रणनीतियों पर कार्य किया जाएगा। आतंकवाद से निपटने में यह युद्धाभ्यास मील का पत्थर साबित होगा। इस दौरान दोनों देशों के सैनिकों को एक दूसरे के अनुभवों को साझा करने का अवसर भी प्राप्त होगा।