सूरजपाल अम्मू का विरोध कर रहे लोग पहले अपने गिरेबान में झांके:सुखदेव सिंह

195

नई दिल्ली: पद्मावत फिल्म को लेकर सुर्खियों का केंद्र बनें सूरज पाल अम्मू दा इस्तीफा भाजपा ने नामंजूर कर दिया है।अब सूत्रों की माने तो पार्टी उन्हें एक बड़ी जिम्मेदारी भी दे सकती है। राजस्थान, मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और मिज़ोरम के चुनाव की तारीख की घोषणा चुनाव आयोग कर चुका है। हरियाणा और राजस्थान में सूरज पाल अम्मू की अच्छी पकड़ है और कयास लगाए जा रहे हैं कि उन्हें भाजपा अपना स्टार प्रचारक बना सकती है। इस्तीफा नामंजूर होने की जानकारी  भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष सुभाष बराला ने लेटर जारी करके दी। भाजपा से इस्तीफा देने के बाद सूरजपाल अम्मू ने देशभर में रैलियां की और ऐसे में सूरजपाल अम्मू की बढ़ती लोकप्रियता शायद भाजपा को दिखी और भाजपा ने अपने सीनियर कार्यकर्ता और पूर्व हरियाणा चीफ मीडिया को ऑर्डिनेटर पद पर रहे सूरजपाल अम्मू को घर वापसी कराई।

वहीं अम्मू के भाजपा में चले जाने से करणीसेना के कार्यकर्ताओं ने उन पर छल करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि सूरज पाल अम्मू ने सेना को उम्मीद दिखाने के बाद अपने फायदे के लिए भाजपा टीम में वापसी कर ली। वहीं इस मामले में राष्ट्रीय राजपूत करणी सेना सुप्रिमो सुखदेव सिंह गोगामेड़ी ने सूरज पाल अम्मू  का बचाव किया है। उन्होंने सूरजपाल अम्मू के विरोध में सोशल मीडिया पर खबरों को वायरल कर रहे तत्वों को लताड़ते हुए कहा कि जो आदमी राजपूत समाज के लिए अपने दल के विरोध में खड़ा हो गया उसे तुम जैसे लोगों के सर्टिफिकेट की जरूरत नहीं है। उन्होंने कहा कि भाजपा छोड़कर किस नेता ने हमारी मदद की उसकी ईमानदारी पर शक करना पाप होगा। उन्होंने कहा कि हमारे बीच से निकलकर अगर हमारा भाई राजनीति में आगे बढ़ेगा तो हमारे लिए ये गर्व की बात है।