भारतीय सेना ने बचाई जान,गर्भवती महिला ने जुड़वां बच्चियों को दिया जन्म

नई दिल्लीः भारत में हर मुस्किल समय में भारतीय सेना को ही याद किया जाता है। जिसका उदाहरण समय-समय पर देखा गया है। कश्मीर में भारतीय सेना जहां देश की सुरक्षा में अपनी जान तक निक्षावर कर रही है तो वही कश्मीर में बड़ रही ठंड से भी जूझ रही है। पर जिसके बाद भी भारतीय सेना का जज्बा कम नहीं हुआ है।  8 फरवरी को भारतीय सेना की बांदीपोरा में थलसेना की पनार शिविर के कंपनी कमांडर को एक ग्रामीण ने फोन किया । उसने सेना से अपनी गर्भवती पत्नी गुलशाना बेगम को अस्पताल ले जाने के लिए मदद मांगी। जिसके बाद भारतीय सेना के जवानों ने समय रहते महिला को उत्तर कश्मीर के बांदीपोरा जिला अस्पताल में भर्ती कराया। जहाँ महिला ने जुड़वा बच्चों को जन्म दिया। कश्मीर में इस समय जनजीवन काफी प्रभावित हो चुका है। ठंड के कारण लगातार बर्फीले तूफानों और बर्फ गिरने से कश्मीर की सड़कें बंद हो चुकी है। खबर के अनुसार अब तक 5 पुलिसकर्मियों समेत लगभग 12 से 15 लोग बर्फबारी की चपेट में आने से अपनी जान गंवा चुके है।सेना के अधिकारी ने बताया कि ‘मौसम काफी खराब था और लगातार बर्फबारी भी हो रही थी। साथ ही तापमान भी माइनस 7 डिग्री तक पहुंच गया था। सड़क पर बर्फ की मोटी परत बिछी होने के कारण आवाजाही पूरी तरह से बंद थी। ऐसे में उस गर्भवती महिला को मदद की सख्त जरुरत थी।सेना के जवानो ने महिला के घर पहुँच कर वहां से उसे स्ट्रेचर में लेटाकर करीब ढाई किमी पैदल रास्ता तय करने के बाद आर्मी की एंबुलेंस से जिला अस्पताल पहुचाया गया। जिला अस्पताल में जांच के बाद बताया गया कि महिला के गर्भ में जुड़वां बच्चे हैं और उसे सिजेरियन की ज़रूरत थी। इसके लिए उसे वहां से श्रीनगर अस्पताल के लिए रेफर किया गया। यहां महिला ने आठ फरवरी की रात ही जुड़वां बच्चियों को जन्म दिया। इस तरह के मौसम में भारतीय सेना ने गर्भवती महिला की जो मदद करी, उस से कश्मीर के पत्थरबाजों के सिर शर्म से झुक गये होगे।