उत्तराखंड में कोरोना की मार के बाद बर्ड फ्लू का डर, खाली होने लगे हैं पोल्ट्री फार्म

देहरादून: कोरोना की मार से देश की पोल्ट्री इंडस्ट्री अब तक पूरी तरह उबर भी नहीं पाई थी कि अब बर्ड फ्लू के प्रकोप का शिकार बन गई है। बर्ड फ्लू के हालिया प्रकोप की खबर के बाद देश में चिकन और अंडे की मांग में तेज गिरावट देखने को मिली है। वहीं पोल्ट्री कारोबार से जुड़ी कंपनियों को काफी नुकसान उठाना पड़ रहा है।

हालांकि उत्तराखंड में अभी तक बर्ड फ्लू का कोई केस सामने नहीं आया है। इसके बावजूद नुकसान से बचने के लिए पोल्ट्री संचालकों ने सस्ते में अपने बॉयलर मुर्गों को बेचना शुरू कर दिया है। इसके चलते दून के पोल्ट्री फार्म खाली होने लगे हैं। बर्ड फ्लू के डर का असर अंडे के दामों पर भी पड़ा है।

यह भी पढ़े:स्वामित्व योजना से जुड़ेंगे उत्तराखंड के टिहरी, उत्तरकाशी और नैनीताल जिले

यह भी पढ़े:उत्तराखंड में संक्रमित राज्यों से मुर्गियों और अंडों की आपूर्ति पर रोक,खरीद भी होगी बंद

व्यापारियों का कहना है कि बर्ड फ्लू से बॉयलर को बचाने के लिए उन्होंने कुछ दिन पहले अपने पोल्ट्री फार्म का तापमान बढ़ाया था। इसके लिए पोल्ट्री फार्म में अतिरिक्त लाइटे लगाने के साथ अंगीठी भी जलानी शुरू की थी। हर साल बर्ड फ्लू की वजह से हजारों रुपये का नुकसान होता है। ऐसे में इस बार सस्ते में अपने सभी बॉलयर मुर्गों को बेच दिया है।

बर्ड फ्लू की खबर से अंडे के दामों में भी 20 से 30 रुपये की गिरावट आई है। जानकारी के अनुसार बीते दो दिनों में पोल्ट्री उत्पाद यानी चिकन और अंडे की मांग करीब 60 फीसदी गिर गई है। कोरोना से डरे लोग बर्ड फ्लू की खबरों के बाद पूरी सतर्कता बरत रहे हैं। खास बात ये है कि जिन क्षेत्रों से बर्ड फ्लू की कोई खबर नहीं मिली है वहां भी चिकन और अंडे की मांग में गिरावट देखने को मिली है।

यह भी पढ़े:उत्तराखंड:सरकारी स्कूलों का वार्षिक कैलेंडर जारी, बच्चों को ज्यादा पढ़ाई करनी होगी

यह भी पढ़े:रोडवेज कर्मचारियों को नहीं मिल रहा था ESI का लाभ, विभाग की लापरवाही सामने आई

Join WhatsApp Group & Facebook Page

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा WhatsApp Group ज्वाइन करें।
Join Now

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा Facebook Page लाइक करें।
Like Now