ब्रेकिंग न्यूज: रोहित शेखर की मौत नहीं थी NATURAL, दिल्ली पुलिस ने दर्ज किया हत्या का केस

18 अक्टूबर 2018 को उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिवंगत एनडी तिवारी की मृत्यु हुयी थी।उनके बाद  रोहित शेखर तिवारी ही उनके इकलौते वारिस के रूप में पहचाने गये थे। रोहित ने बड़ी मुश्किल से एन डी तिवारी के बेटे के रूप में परचान हासिल की थी। परंतु जीवन के कई संघर्षों के बाद हासिल हुयी यह पहचान उनकी मौत का कारण बनती दिख रही है।16 अप्रैल 2019 को रोहित शेखर तिवारी की अचानक मृत्यु ने सभी को स्तब्ध कर दिया। ड़ॉक्टर के अनुसार रोहित शेखर की मौत का कारण हार्ट अटैक बतायया गया था।पर जांच पड़ताल के बाद रोहित शेखर (40) की मौत का रहस्य और गहराता हुआ नजर आ रहा है। रोहित शेखर तिवारी की मौत के बारे में दिल्‍ली पुलिस ने पोस्‍टमार्टम रिपोर्ट का चौकाने वाला खुलासा किया है। पोस्‍टमार्टम रिपोर्ट के अनुसार उनकी ‘अप्राकृतिक मौत’ थी। पीएम रिपोर्ट के सामने आने के बाद पुलिस ने आइपीसी की धारा 302 के तहत केस दर्ज किया गया है।संदिग्धों की पुष्टि ना होने के कारण यह मामला अज्ञात लोगों के खिलाफ दर्ज किया गया है।

शुक्रवार इस मामले की जांच दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच को सौंप दी गई।  क्राइम ब्रांच ने  तुंरत एक्शन लेते हुए डिफेंस कॉलोनी स्थित रोहित के घर पहुंच जांच पड़ताल की। इस दौरान उनके साथ फॉरेंसिक टीम भी थी।रोहित शेखर तिवारी  के शव का पोस्टमार्टम बुधवार को अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान के पांच डॉक्टरों के मेडिकल बोर्ड ने किया। संयुक्त आयुक्त (दक्षिणी रेंज) देवेश चंद्र श्रीवास्तव के मुताबिक बोर्ड ने पुलिस को पोस्टमार्टम की प्रारंभिक रिपोर्ट नहीं सौंपी है। रिपोर्ट आने के बाद ही मौत के सही कारण का पता लग सकेगा। इस दौरान रोहित के परिवार के सभी सदस्य अस्पताल में मौजूद रहे। उनकी मां ने यह भी बताया कि राजनीति में मौका ना मिलने को लेकर रोहित तनाव में थे। वो पिता की विरासत को आगें ले जाना चाहते थे। उसने अपने जीवन में काफी संघर्ष किया था।

उन्होंने यह भी कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री एनडी तिवारी षड्यंत्र में फंस गए गए थे। उनके आसपास के लोगों ने उन्हें घेर रखा था, लेकिन रोहित ने उन्हें षड्यंत्र से बाहर निकाल लिया था। इसी वजह से एनडी तिवारी का अंतिम समय शानदार तरीके से गुजरा। रोहित शेखर तिवारी ने श्रवण कुमार की तरह पिता की सेवा की। मोर्चरी के बाहर रोहित की पत्नी अपूर्वा शुक्ला, भाई सिद्धार्थ तिवारी व परिवार के अन्य रिश्तेदार भी मौजूद थे।रोहित की मौत से सभी को बहुत बड़ा झटका लगा है।

गौरतलब है कि डिफेंस कॉलोनी स्थित घर में मंगलवार दोपहर रोहित शेखर तिवारी की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई थी। उस दौरान उनकी पत्नी, भाई व घरेलू सहायक घर पर मौजूद थे। उज्ज्वला शर्मा घर के नजदीक ही डॉक्टर के पास गई थीं। घरेलू सहायक की नजर रोहित पर पड़ने पर उसने तुरंत परिजनों को घटना की जानकारी दी थी। इसके बाद डिफेंस कॉलोनी थाना पुलिस को सूचना दी गई। बिस्तर पर अचेत अवस्था में पड़े रोहित की नाक से खून निकल रहा था। उन्हें साकेत स्थित मैक्स अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया था। परिजनों ने किसी भी तरह की शंका नहीं जताई है, फिर भी पुलिस रोहित के परिजनों, रिश्तेदारों व दोस्तों से पूछताछ कर हर पहलुओं पर जांच कर रही है। उनके घर की भी पुलिस ने जांच की है।