गलत खान-पान के कारण आजकल 5 में से 3 लोग किसी ना किसी हैल्थ प्रॉब्लम से परेशान हैं। पाइल्स या बवासीर भी इन्हीं में से एक है। बवासीर भी दो तरह की होती हैं एक खूनी बवासीर और मस्से वाली बवासीर। ये बीमारी एक बार ठीक होने के बाद दोबारा फिर से हो जाती हैं। एेसे में बवासीर से ग्रस्त लोगों को अपने खान-पान पर बहुत अधिक ध्यान देना चाहिए। आज हम आपको बताएंगे कि पाइल्स या बवासीर में कौन सी चीजें खानी चाहिए और किन चीजों से परहेज करना चाहिए।

बवासीर होने के कारण

1. शोच करते समय दबाव डालना।
2. कब्ज रहना।
3. एक ही स्थिति में बैठे रहना।
4. ज्यादा देर तक खड़े रहना।
5. मोटापा।
6. फाइबर की कमी।
7. जेनेटिक्स कारण।

पाइल्स के लक्षण
1. मल त्याग के दौरान ब्लीडिंग होना।
2. गुदा से एक बलगम जैसा स्राव निकलना।
3. गुदा के पास एक दर्दनाक सूजन या गांठ महसूस होना।
4. गुदा क्षेत्र में खुजली, जो लगातार या रुक रुक कर हो सकती है।

 

बवासीर में ना खाएं ये चीजें

1. हरी या लाल मिर्च
बवासीर की समस्या होने पर लाला या हरी मिर्च का सेवन नहीं करना चाहिए। मिर्च खाने से बवासीर के जख्म एक बार फिर सक्रिय हो जाते हैं। मिर्च के साथ ही गर्म मसाला, चटपटा, तीखा खाना भी नहीं खाना चाहिए।

2. धूम्रपान और गुटखा
नशे या धूम्रपान का सेवन किसी भी बीमारी को बढ़ाने का काम करता है। वैसे ही सुपारी, गुटखा, पान मसाला, सिगरेट पीने से भी बवासीर की समस्या बढ़ जाती है। जो लोगों बवासीर की समस्या से परेशान है उनको नशे से दूर रहना चाहिए।