हल्द्वानी:गौलापार के कमल कन्याल ने सिक्किम के खिलाफ विजय हज़ारे ट्रॉफी में जड़ा शतक

हल्द्वानी: शहर के युवा क्रिकेटर कमल सिंह कन्याल ने विजय हजारे ट्रॉफी में शानदार पारी खेलकर उत्तराखंड के हर क्रिकेट प्रेमी का दिल जीत लिया है। कमल सिंह कन्याल के विजय हजारे करियर का यह पहला शतक सिक्किम के खिलाफ आया है। कमल सिंह कन्याल ने 121 गेंदों में 119 रनों की पारी खेली। जिसमें उनके बल्ले से 16 चौके निकले।

हल्द्वानी गौलापार के कमल सिंह कन्याल का खेल दिन प्रतिदिन निखरता जा रहा है। उत्तराखंड टीम की तरफ से कमल इस साल की विजय हज़ारे ट्रॉफी में काफी बेहतरीन बल्लेबाजी कर रहे हैं। अपनी शानदार बैटिंग फॉर्म से हर मैच में उत्तराखंड को कमल द्वारा गज़ब की शुरुआत मिल रही है।

यह भी पढें: खेती से कैप्टन महेंद्र सिंह ने बदली पसमा गांव की तस्वीर, लॉकडाउन में किया शानदार काम

यह भी पढें: प्राइवेट अस्पतालों में एक मार्च से लगेगा कोरोना का टीका, केवल 250 रुपए की होगी एक डोज

सिक्किम के खिलाफ चल रहे मैच में कमल ने 121 गेंदों में शानदार 119 रनों का पारी खेली है। जिसकी बदौलत उत्तराखंड की टीम बड़े स्कोर की तरफ बढ़ रही है। बहरहाल आपको बता दें कि उत्तराखंड की तरफ से विजय हजारे ट्रॉफी के 2020-21 सीजन का यह दूसरा शतक है। जे बिस्टा ने पहले ही मुकाबले में मेघालय के खिलाफ 141 रनों की पारी खेली थी।

विजय हज़ारे ट्रॉफी और रणजी ट्रॉफी में उत्तराखंड के लिए शतक लगाने वाले कमल दूसरे बल्लेबाज बने हैं। पहले नंबर पर विनीत सक्सेना का नाम दर्ज है। जिन्होंने साल 2018-19 सीजन में शतक जमाया था।

यह भी पढें: ऑनलाइन ठगों पर भारी पड़ेगी जनता, नैनीताल पुलिस ने दी यह छह टिप्स

यह भी पढें: हल्द्वानी व्यापारी को लूटने वाले निकले यूपी के बदमाश,पुलिस खुलासे में सामने आया सच

बता दें कि साल 2019-20 में कमल सिंह कन्याल ने अपने रणजी डेब्यू में भी महाराष्ट्र के खिलाफ शतक जड़ इतिहास रचा था। वह उत्तराखंड की ओर से ऐसा करने वाले पहले बल्लेबाज बने थे। कमल ने 101 रनों की पारी खेली थी। इससे पहले अंडर-19 कूच बिहार ट्रॉफी में उत्तराखण्ड ने सेमीफाइनल तक का सफर तय किया था और कमल का योगदान उसमें सबसे ज्यादा रहा था।

इस खिलाड़ी ने 9 मैच में 805 रन बनाए। उनके बल्ले से 3 शतक और तीन फिफ्टी भी निकली। कमल का बेस्ट स्कोर 206 रहा। सीजन की शुरुआत से कमल के बल्ले से अपना शोर मचाना शुरू कर दिया था। उन्होंने वनडे के 4 मुकाबलों में 1 शतक और दो फिफ्टी जमाई थी। जिसके बाद उन्हें सीनियर टीम में जगह मिली थी। गौलापार के बेटे ने रणजी ट्रॉफी के बाद वनडे क्रिकेट में भी अपने आप को साबित किया है।

यह भी पढें: भारत सरकार ने किया नैनीताल जिले को सम्मानित,किसानों के लिए काम करने पर मिला ये अवार्ड

यह भी पढें: उत्तराखंड फायर ब्रिगेड में महिलाओं की भी होगी एंट्री,शासन की ओर से अधिसूचना जारी

Join WhatsApp Group & Facebook Page

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा WhatsApp Group ज्वाइन करें।
Join Now

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा Facebook Page लाइक करें।
Like Now