किस्मत बदलने के लिए वनडे सीरीज़ में ऑस्ट्रेलिया आजमा रही है 33 साल पुराना टोटका

नई दिल्ली:  जिस टीम को क्रिकेट के मैदान का सोना कहा जाता था वो अपनी चमक खो बैठी है। जिस ऑस्ट्रेलिया ने 15 साल क्रिकेट पर राज किया (पिछले 20 सालों में 4 विश्वकप जीते) वो उसवे अब पटरी पर लौटने के लिए टोटके का साहरा लेना पड़ रहा । भारतीय टीम के खिलाफ ये दूसरी बार होने वाला है।

कंगारू टीम शनिवार 12 जनवरी से भारत के खिलाफ 3 मैचों की वनडे सीरीज का आगाज करेगी।पहले वनडे मैच में ऑस्ट्रेलियाई टीम अपनी नई वनडे जर्सी में नजर आएगी. कंगारू टीम की इस नई वनडे जर्सी का डिजाइन 33 साल पुराना है।भारत के खिलाफ वनडे सीरीज में ऑस्ट्रेलिया रेट्रो लुक यानी साल 1986 वाली जर्सी पहनकर खेलती नजर आएगी। साल 1986 में ऑस्ट्रेलिया की जर्सी को ग्रीन एंड गोल्ड के नाम से पहचाना जाता था।साल 1986 में ऑस्ट्रेलिया ने भारत के खिलाफ ही इस तरह की जर्सी पहनी थी और अब एक बार फिर से कंगारू टीम इतिहास को दोहराने जा रही है।

फेसबुक पर हल्द्वानी लाइव का पेज जरूर लाइक करें

1986 में एलन बॉर्डर की कप्तानी वाली ऑस्ट्रेलियाई टीम ने भारत के खिलाफ वनडे सीरीज में ये जर्सी पहनी थी।33 साल पहले जब ऑस्ट्रेलिया ने इस तरह की जर्सी पहनी थी उसके बाद वो 1987 में पहली बार विश्व विजेता बनी थी। इसके बाद से ही ऑस्ट्रेलियाई टीम विश्व क्रिकेट में लगातार अच्छा प्रदर्शन करती रही। एक से बढ़कर एक खिलाड़ी इस टीम से जुड़ते रहे और अपने प्रदर्शन से ऑस्ट्रेलियाई टीम को बुलंदियों तक पहुंचाते रहे, लेकिन पिछले एक साल से इस टीम के प्रदर्शन में गिरावट देखने को मिली है।

हल्द्वानी लाइव डॉट कॉम का Youtube चैनल को जरूर SUBCRIBE करें

हालांकि इसका एक बहुत बड़ा कारण स्टीव स्मिथ और डेविड वॉर्नर पर गेंद से छेड़छाड़ करने के चलते लगा बैन भी है। लेकिन इस साल विश्व कप भी खेला जाना है तो कहीं ऐसा तो नहीं है कि अपने खराब प्रदर्शन से निराश होकर क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने फिर एक बार इस जर्सी का टोटका आजमाया है ताकि उनकी टीम के प्रदर्शन में निखार आ सके।

वनडे में जीत के लिए 33 साल पुरानी जर्सी में नजर आएगी कंगारू टीम