भारतीय खिलाड़ी से हुई बड़ी गलती, BCCI ने भेजा कारण बताओं नोटिस

नई दिल्ली: विश्वकप के बाद टीम से बाहर हुए विकेटकीपर बल्लेबाज दिनेश कार्तिक को बीसीसीआई ने आड़ें हाथ लिया है। कार्तिक कैरिबियन प्रीमियर लीग (सीपीएल) की टीम त्रिनबागो नाइट राइडर्स के ड्रेसिंग रूम में गए थे और इसे लेकर बीसीसीआई ने उन्हें कारण बताओं नोटिस भेजा है। कार्तिक से बोर्ड ने 7 दिन के अंदर जवाब देने को कहा है। खबर के अनुसार कार्तिक त्रिनबागों के कोच ब्रेंडन मैक्कुलम के साथ ड्रेसिंग रूम देखे गए थे।

बता दें कि मैक्कुलम को हाल में ही कोलकाता नाइटराइडर्स का कोच नियुक्त किया गया है। कार्तिक केकेआर के कप्तान है। केकेआर और त्रिनबागों नाइट राइडर्स के मालिक शाहरुख खान हैं। लेकिन बीसीसीआई अपने रुख पर साफ है कि भारतीय खिलाड़ियों का विदेश की टी-20 लीगों से कोई लेना-देना नहीं है। कार्तिक बोर्ड के केंद्रीय अनुबंध प्राप्त खिलाड़ी हैं, इसके लिए उन्हें बोर्ड से अनुमति लेनी चाहिए थे।

इस मामले में बोर्ड के एक सीनियर अधिकारी ने आईएएनएस से बात करते हुए इस बात की पुष्टि की है। उन्होंने कहा है कि कार्तिक को ऐसा करने से पहले इजाजत लेनी चाहिए थी क्योंकि वह अभी भी बोर्ड के केंद्रीय अनुबंध प्राप्त खिलाड़ियों की सूची में हैं।बोर्ड द्वारा कार्तिक को सात दिनों के अंदर इस नोटिस का जवाब देने को कहा गया है। अधिकारी ने कहा, ‘चूंकि वह भारतीय टीम के खिलाड़ी हैं ऐसे में कुछ प्रोटोकॉल होते हैं जिनका पालन करना जरूरी है। वह केंद्रीय अनुबंध में शामिल हैं और ऐसे में वह बीसीसीआई की इजाजत के बिना सीपीएल के ड्रेसिंग रूम में नहीं जा सकते। उन्हें सात दिनों के अंदर नोटिस का जवाब देना होगा।’

फिलहाल कार्तिक के ड्रेसिंग रूम जाने का कारण सामने नहीं आया है। कार्तिक का भविष्य अब इस बात पर निर्भर करता है कि प्रशासकों की समिति (सीओए) इस मसले को किस तरह से देखती है। अधिकारी ने कहा, ‘देखना होगा कि सीओए उनके जवाब को किस तरह से लेती है।’

यह भी पढ़ेंः उत्तराखंडः शादी का झांसा देकर फौजी ने युवती से किया दुष्कर्म
उत्तराखंडः पत्नी के साथ चल रहे विवाद में पति ने उठा डाला यह खौफनाक कदम

ह भी पढ़ेंः देवभूमि की बेटियों के लिए सुनहरा अवसर, 14 सितंबर को सेना भर्ती रैली

यह भी पढ़ेंः उत्तराखंड चौकाने वाला मामला, हत्या की आशंका पर कब्र से निकाला बच्ची का शव

यह भी पढ़ेंः हॉस्पिटल की व्यवस्थाओं ने बिगाड़ा डीएम बंसल का मूड, डॉक्टर का काटा वेतन