रोहित शर्मा के स्कूल को मिली 754 रनों से जीत, किसी बल्लेबाज का नहीं खुला खाता

नई दिल्ली: क्रिकेट के मैदान पर कभी भी कुछ भी हो सकता है। जो आप सोच भी नहीं सकते वो भी हो सकता है। तभी यह खेल सबसे अलग कहा जाता है। विश्वभर से तमाम ऐसी खबरे आती है जो फैंस को चौका देती है। एक ऐसा ही खबर आ रही है मुम्बई से जहां एक टीम को 11 खिलाड़ी खाता खोलने में भी नाकाम रहे और टीम को 754 रनों से हार का सामना करना पड़ा। खास बात यह रही कि हारने वाली टीम मात्र 6 ओवर में ऑल आउट हो गई और उसका एक भी बल्लेबाज खाता नहीं खोल पाया।

यह मामला का है मुंबई के प्रतिष्ठित स्कूल टूर्नामेंट हैरिस शील्ड के पहले राउंड के नॉक आउट मैच का। मुकाबला स्वामी विवेकानंद इंटरनेशनल स्कूल और चिल्ड्रन वेलफेयर स्कूल के बीच खेला गया था। आजाद मैदान के न्यू एरा ग्राउंड पर पहले बल्लेबाजी करते हुए विवेकानंद स्कूल ने 39 ओवरों में 761 रन बनाए।

विवेकानंद की ओर से मीत मायेकर ने 134 बॉल गेंद में 56 चौके और सात छक्के की मदद से 338 रन बनाए। इस स्कोर में 156 रनों की पेनाल्टी भी शामिल है चूंकि चिल्ड्रन वेलफेयर के बोलर निर्धारित तीन घंटे के टाइम में 45 ओवर पूरे नहीं फेंक पाए थे। उन्होंने छह ओवर कम फेंके। इसके अलावा विवेकानन्द की ओर से कृष्णा पार्ते (95) और ईशान रॉय (67) रनों का योगदान दिया। लक्ष्य का पीछा करने उतरी चिल्ड्रन वेलफेयर स्कूल की टीम 6 ओवर में ऑल आउट हो गई । कोई भी बल्लेबाज खाता भी नहीं खोल पाया।

विपक्षी टीम के गेंदबाजों ने सात अतिरिक्त रन (छह वाइड और एक बाई) रन दे दिया, यदि ऐसा नहीं होता तो स्कोरबोर्ड पर कोई रन भी नहीं होता। विवेकानंद इंटरनेशनल स्कूल की ओर से मीडियम पेसर अलोक पाल ने तीन ओवरों में तीन रन देकर छह विकेट लिए। कप्तान वरोद वाजे ने तीन रन देकर दो विकेट लिए। बाकी दो बल्लेबाज रन आउट हुए। इस जीत से स्वामी विवेकानंद इंटरनैशनल स्कूल के कोच महेश लोतीकर बहुत खुश नजर आए। बता दें कि रोहित शर्मा भी इस स्कूल के छात्र रह चुके हैं।