वर्ल्ड कप में इंग्लैंड को चैंपियन बनाने वाले जोफ्रा आर्चर के भाई की गोली मारकर हत्या

नई दिल्ली: विश्वकप में इंग्लैंड को खिताब दिलाने में जोफ्रा आर्चर का योगदान सबसे बड़ा रहा है। उन्होंने पूरे विश्वकप में शानदार बल्लेबाजी की। फाइनल मुकाबले में इंग्लैंड की ओर से सुपर ओवर में आर्चर ने ही डाला था और न्यूजीलैंड को 16 रन बनाने से रोका था। कीवी टीम 15 रन बना पाई थी लेकिन बांउड्री के आधार पर इंग्लैंड को विजेता घोषित किया गया। फाइनल मुकाबला से जुड़ा एक बड़ी खबर सामने आ रही है।

विश्वकप के दौरान जोफ्रा आर्चर के चचेरे भाई की बारबाडोस में हत्या हुई थी। इस समय जोफ्रा आर्चर विश्व कप में अपना पहला मुकाबला खेल रहे थे । आर्चर ने विश्वकप के 11 मुकाबलों में 20 विकेट हासिल किए। मीडिया रिपोर्टस के मुताबिक जोफ्रा आर्चर के पिता फ्रेंक ने बताया कि एंशेटियो ब्लैकमेन जोफ्रा का हम उम्र था और दोनों भाई काफी करीब थे। हत्या की खबर मिलने के बाद इंग्लिश गेंदबाज पूरी तरह से टूट गया था। ये घटना पूरे परिवार के लिए एक सदमा थी। परिवार ने बहुत मुश्किल से उन्हें समझाया और मैच खेलने को तैयार किया ।

रिपोर्ट के मुताबिक 24 साल के एशांटियो 31 मई को अपने घर के बाहर एक सफेद कार में खून से लथपथ मृत पाए गए थे। इस घटना के कारण आर्चर के पिता फ्रैंक फाइनल देखने के लिए लॉर्ड्स नहीं पहुंच पाए थे लेकिन उनकी मां जुली वेट और सौतेले पिता प्रैट्रिक लॉर्ड्स के मैदान पर मौजूद थे।

मीडिया को मिली जानकारी के अनुसार बचपन में ही आर्चर के पहले पिता और उनकी मां एक-दूसरे अलग हो गए थे। आर्चर की मां आर्चर को पिता के पास नहीं रहने दिया था। इसके बाद आर्चर बचपन में ही अपने मामा के पास इंग्लैंड आ गए थे।हालांकि उनको इंग्लैंड की नागरिकता उनके सौतेले पिता की ओर से मिला है।