दुर्भाग्य, बिना मैच खेले इमर्जिंग टीम्‍स एशिया कप से बाहर हुए कमलेश नगरकोटी

हल्द्वानी: इमर्जिंग टीम्‍स एशिया कप के लिए टीम इंडिया बांग्लादेश के लिए रवाना हो गई है। भारत को अपने अभियान की शुरुआत 14 नवंबर को नेपाल के खिलाफ करनी है। टीम इंडिया ग्रुप ए में है और उसके साथ बांग्‍लादेश, हांग कांग और नेपाल है। वहीं ग्रुप बी में श्रीलंका, अफगानिस्‍तान, पाकिस्‍तान और ओमान है। भारतीय टीम को झटका लगा है। चोट के चलते तेज गेंदबाज कमलेश नगरकोटी टीम से बाहर हो गए है। कमलेश साल 2018 आईपीएल सीजन के बाद से चोट के चलते मैदान से बाहर है। कमलेश मूल रूप से उत्तराखण्ड बागेश्वर के रहने वाले हैं। उनके टीम से बाहर होने के बाद उत्तराखण्ड के फैंस काफी निराश हैं। कमलेश के अलावा भारतीय टीम में हल्द्वानी के आर्यन जुयाल को टीम में चुना गया है।

कमलेश नागरकोटी बेंगलुरु में नेशनल क्रिकेट एकेडमी में रहकर चोट से उबर रहे थे। यहां पर बीसीसीआई के एक्‍सपर्ट उनकी चोट पर नजर बनाए हुए थे। बता दें कि नागरकोटी की पीठ के निचले हिस्‍से, एड़ी और टखने में स्‍ट्रेस फ्रेक्‍चर है। नागरकोटी ने अपना आखिरी मुकाबला राजस्‍थान की ओर तमिलनाडु के खिलाफ विजय हजारे ट्रॉफी में खेला था। डेढ़ साल से क्रिकेट से बाहर हैं।

कमलेश नगरकोटी ने 2018 में खेले गए अंडर-19 विश्वकप में अपनी गेंदबाजी से सभी को प्रभावित किया। उन्होंने लगातार 149 प्रतिघंटे की रफ्तार से गेंदबाजी की थी लेकिन चोट ने इस खिलाड़ी को क्रिकेट से दूर कर दिया। घरेलू क्रिकेट में भी शानदार गेंदबाजी की है 9 लिस्‍ट मैच में 25 की औसत से उनके नाम 11 विकेट हैं। उन्‍होंने राजस्‍थान की ओर से लिस्‍ट ए मैचों में सबसे पहली हैट्रिक लेने का कारनामा भी किया है।

कमलेश नागरकोटी की जगह शिवम मावी को टीम में लिया गया है। मावी और नागरकोटी दोनों अंडर 19 वर्ल्‍ड कप में साथ खेले था। मावी आईपीएल में कोलकाता नाइटराइडर्स की ओर से खेलते हैं जबकि घरेलू क्रिकेट में उत्‍तर प्रदेश के सदस्‍य हैं। उनके नाम 5 फर्स्‍ट क्‍लास में 19 और 13 लिस्‍ट ए मैचों में 18 विकेट हैं।