रोहित और मयंक का धमाल, इतिहास में केवल तीन बार हुआ ये कमाल

नई दिल्ली: साउथ अफ्रीका के खिलाफ विशाखापट्टम में चल रहे पहले टेस्ट में भारतीय सलामी बल्लेबाजों ने इतिहास रच दिया है। दोनों पहली बार एक साथ सलामी बल्लेबाजी करने उतरे थे और तिहरे शतक की साझदारी भी कर डाली। रोहित शर्मा और मयंक अग्रवाल ने पहले विकेट के लिए 317 रन जोड़े। रोहित ने 176 रनों की पारी खेली। वहीं मयंक ने शानदार 215 रन बनाए। दोनों ही खिलाड़ियों के लिए यह शतक रिकॉर्ड लेकर आए हैं। 47 साल बाद पहला मौका था जब दोनों खिलाड़ी सलामी बल्लेबाज के रूप में उतरे हों।

यह तीसरा मौका है जब भारतीय टीम के सलामी बल्लेबाजों ने 300 से ज्यादा रनों की साझेदारी की है। इससे पहले दो बार ही भारत की ओपनिंग जोड़ी ने तीन सौ रन की साझेदारी निभाई थी। साल 1956 में पंकज रॉय और वीनू मांकड़ ने न्यूजीलैंड के खिलाफ 413 रन की साझेदारी निभाई थी। साल 2006 में वीरेंद्र सहवाग और राहुल द्रविड़ ने पाकिस्तान के खिलाफ लाहौर में 410 रन की भागेदारी की थी। मयंक का टेस्ट क्रिकेट में यह पहला शतक था जिसे उन्होंने दोहरे शतक में तब्दील किया। दोनों ने पहले विकेट के लिए 317 रन जोड़े। इसमें रोहित ने 176 रन बनाए जबकि मयंक के बल्ले से 137 रन निकले।

रोहित और मयंक की सलामी जोड़ी साउथ अफ्रीका के खिलाफ टेस्ट में 300 रनों की साझेदारी करने के मामले में पहले नंबर पहुंच गई है। इससे पहले किसी भी टीम के सलामी बल्लेबाजों ने साउथ अफ्रीका के खिलाफ 300 रनों की साझेदारी नहीं की है। दोनों देशों के बीच हुए सभी टेस्ट में सर्वाधिक रनों की साझेदारी का रिकॉर्ड भी कायम किया। इससे पहले कोलकाता में साल 1996 में गैरी कर्स्टन और एंड्रयू हडसन ने पहले विकेट के लिए भारत के खिलाफ 236 रनों की साझेदारी की थी। वहीं भारत की ओर से साल 2004 में कानपुर टेस्ट में वीरेंद्र सहवाग और गौतम गंभीर ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ ओपनिंग जोड़ी के तौर पर 218 रन जोड़े थे।

यह भी पढ़ेंः उत्तराखंडः आदमखोर गुलदार ने झपट्टा मार मां की गोद से छीना बच्चा

यह भी पढ़ेंः हल्द्वानी लाइवः रिजॉर्ट में चल रही थी डांस पार्टी, 13 युवक-युवतियां गिरफ्तार

यह भी पढ़ेंः बारिश ने बिगाड़ा उत्तराखण्ड में विजय हजारे ट्रॉफी का रोमांच, अबतक 7 मुकाबले रद्द

यह भी पढ़ेंः हल्द्वानी में डेंगू मचा रहा कोहराम, डेंगू से महिला की मौत, अस्पताल में तोड़ा दम