हल्द्वानी: महिला वर्ल्ड टी-20 इस बार पहले ज्यादा चर्चा में हैं। इसकी खासवजह है भारतीय टीम की सलामी बल्लेबाज शैफाली वर्मा। 16 साल की शैफाली ने अपनी बेखौफ बल्लेबाजी से सभी का दिल जीता है। भारतीय टीम ने टूर्नामेंट में तीन जीत हासिल की है। तीन में से दो में वर्मा प्लेयर ऑफ द मैच बनी हैं जबकि तीनों मैच में उन्होंने टीम को शानदार शुरुआत दिलाई है। हमारे पास शैफाली के कुछ आंकड़े हैं जो बताते हैं कि इस लड़की में महिला टीम के सहवाग बनने के गुण हैं।

वर्ल्ड टी-20 की बात करें तो शैफाली रन बनाने के मामले में दूसरे नंबर पर हैं। 3 मुकाबलों में 114 रन। इस बीच उन्होंने 8 छक्के और 11 चौके भी लगाए हैं। सबसे ज्यादा अपने स्ट्राइक रेट से सभी को प्रभावित किया है। इस टूर्नामेंट में उनका स्ट्राइक रेट 172.73 का रहा है। शैफाली फिलहाल भारत के लिए टी-20 खेलती हैं लेकिन अगर वो लगातार इस तरह से खेलती रहीं तो उन्हें सीनियर वनडे टीम में भी शामिल किया जा सकता है।

शैफाली ने 15 साल की उम्र में भारत के लिए डेब्यू किया था। भारत के लिए वह 2 अर्धशतक लगा चुकी हैं। उनका करियर औसत 150 के पास है। बात वर्ल्ड टी-20 की करें तो भारतीय टीम ने टूर्नामेंट में बड़ा स्कोर नहीं बनाया हो लेकिन शैफाली की बल्लेबाजी ने मूमेंटम भारत की ओर रखा हुआ है जिसका फायदा गेंदबाजों को मिला है। न्यूजीलैंड के खिलाफ भारत ने 4 रन से जीत हासिल की है लेकिन हर बार ऐसा नहीं होगा कि शैफाली हर मैच में बल्लेबाजों के प्रदर्शन पर अपने खेल से पर्दा डाल देंगी। वहीं मजबूत टीमों के खिलाफ गेंदबाजों के पास डिफेंड करने के लिए रन होने चाहिए।