सच में विराट हैं भारत के कप्तान कोहली, उंगली उठी तो लगा दिया रिकॉर्ड्स का अंबार

हल्द्वानी: भारत कप्तान विराट कोहली ने आखिरकार लंबे वक्त बाद टेस्ट में अपनी सेंचुरी के सूखे को पुणे में खत्म कर दिया। कोहली अपने करियर का 26वां शतक जड़ा और उसे 7वें दोहरे शतक में तब्दील भी कर दिया। इसके साथ ही कोहली ने पूर्व बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर और वीरेंद्र सहवाग का रिकॉर्ड भी तोड़ दिया। कोहली अब भारत की ओर से सबसे ज्यादा दोहरा शतक बनाने में बल्लेबाज बन गए हैं। कोहली की पारी के बदौलत भारत ने साउथ अफ्रीका के सामने दूसरे टेस्ट की पहली पारी में 601 रन बनाए। इसे पहले कोहली के बल्ले से साल 2017 में श्रीलंका के खिलाफ दोहरा शतक निकला था।

विराट कोहली ने भारत के लिए 2011 में टेस्ट खेलना शुरू किया था। साल 2015 में कोहली की फॉर्म को लेकर कुछ सवाल खड़े हुए थे। लेकिन इस चैंपियन खिलाड़ी ने आलोचकों को मुंहतोड़ जवाब दिया। पहले आईपीएल ने उन्होंने एक सीजन में 4 शतक जमाए। अपनी टीम आरसीबी को फाइनल में पहुंचाया। इसके बाद उन्होंने वेस्टइंडीज दौेरे में एंटिका टेस्ट में करियर का पहला दोहरा शतक जमाया। इसके बाद उसी साल न्यूजीलैंड और इंग्लैंड के खिलाफ सीरीज़ में उनके बल्ले से एक-एक दोहरा शतक निकला।

साल 2016 में कोहली के बल्ले से 3 दोहरे शतक निकले। साल 2017 में भी कोहली के बल्ले से 3 दोहरे शतक निकले। पिछले दो साल फैंस को कोहली के बल्ले से दोहरे शतक इंतजार था वो उन्होंने पुणे टेस्ट में खत्म किया। कोहली ने नाबाद 254 रन बनाए। वह चाहते तो तिहरे शतक के लिए जा सकते थे लेकिन उन्होंने टीम के हक में फैसला किया और पारी घोषित कर दी। गेंदबाजों ने अपने कप्तान के फैसले को सही साबित किया और दिन का खेळ खत्म होने तक साउथ अफ्रीका के तीन बल्लेबाजों को पवेलियन भेज दिया।

टेस्ट कप्तान के तौर पर सर्वाधिक दोहरे शतक लगाने के मामले में कोहली पहले स्थान पर आ गए हैं। कोहली के खाते में बतौर कप्तान 7 दोहरे शतक हैं। वहीं ब्रायन लारा के 5 और डॉन ब्रैडमैन/ माइकल क्लार्क/ग्रीम स्मिथ के खाते में 4 शतक हैं।