17 साल के यशस्वी जायसवाल ने रचा इतिहास, वनडे में जमाया दोहरा शतक

नई दिल्ली: यशस्वी जायसवाल भारत का युवा बल्लेबाज, इसकी क्रिकेट में एंट्री की कहानी ने सभी को भावुक कर दिया। 11 साल की उम्र मुंबई आए इस लड़के ने क्रिकेट खेलने के लिए पानीपुरी बेची और टेंट में सोया। ईश्वर कब तक उसकी मेहनत को रंग नहीं देता, अपने खेल से जायसवाल ने भारतीय अंडर-19 टीम में जगह बनाई और श्रीलंका के खिलाफ शानदार प्रदर्शन किया। एक बार फिर 17 साल का लड़का खबरों में है। इस बार इसने इतिहास रचा है। यशस्वी जायसवाल ने विजय हजारे में दोहरा शतक जड़ दिया है। उन्होंने ये कारनामा झारखंड के खिलाफ किया।

बेंगलुरू में खेले गए मुकाबले में यशस्वी जायसवाल ने महज 154 गेंदों में 203 रनों की पारी खेली। जिसकी बदौलत मुंबई की टीम ने 50 ओवर में 358 रनों का विशाल स्कोर बनाया। यशस्वी विजय हजारे में दोहरा शतक जमाने वाले तीसरे खिलाड़ी बन गए हैं। सबसे पहले साल 2018 में उत्तराखण्ड के करणवीर कौशल ने 202 रन बनाए थे। यह विजय हजारे इतिहास का पहला दोहरा शतक था। इस सीजन में इस रिकॉर्ड को संजू सैमसन ने तोड़ दिय़ा। सैमसन ने केरल की ओर से खेलने हुए गोवा के खिलाफ नाबाद 212 रनों की पारी खेली।

बाएं हाथ के ओपनर यशस्वी जायसवाल ने झारखंड के हर गेंदबाज की जमकर खबर ली और अपनी डबल सेंचुरी में 17 चौके और 12 छक्के लगाए। यशस्वी का स्ट्राइक रेट 131.81 रहा।यशस्वी जायसवाल विजय हजारे ट्रॉफी के एक मैच में 12 छक्के लगाने वाले पहले बल्लेबाज बन गए हैं। जायसवाल लिस्ट ए क्रिकेट में दोहरा शतक जड़ने वाले सबसे युवा भारतीय बन गए हैं। इसी सीजन में लिस्ट ए क्रिकेट में डेब्यू करने वाले यशस्वी जायसवाल अपने पहले ही टूर्नामेंट में कमाल का खेल दिखा रहे हैं। यशस्वी ने अबतक 5 मैच खेले हैं जिसमें उन्होंने 100 से ज्यादा की औसत से 504 रन ठोक दिए हैं। उन्होंने कुल 3 शतक लगाए हैं और टूर्नामेंट में उन्होंने मुंबई के लिए सबसे ज्यादा 20 छक्के और 44 चौके लगाए हैं।