चिंता मत कीजिए, विराट की सेना विश्वकप में करेगी कमाल, ये अंधविश्वास दे रहा है संकेत

हल्द्वानी: पंकज पांडे: विश्वकप से पहले टीम इंडिया अपनी आखिरी सीरीज़ ऑस्ट्रेलिया से हार गया। दिल्ली वनडे में भारत को ऑस्ट्रेलिया ने 35 रनों से हराया और 2-3 से सीरीज़ भी गंवा दी। टीम इंडिया एक वक्त पर 2-0 से आगें चल रही थी लेकिन आखिरी 3 वनडे में हार ने कई सवाल खड़े कर दिए। सबसे ज्यादा विरोट कोहली की कप्तानी पर भी सवाल उठाए जा रहे हैं। वहीं कई विशेषज्ञों ने इस सीरीज को ट्रायल करार दिया और टीम इंडिया को विश्वकप का प्रबल दावेदार करार दिया। टीम इंडिया के फैंस को राहत देने के लिए हम एक रिकॉर्ड पेश कर रहे हैं जो बताएंगा कि टीम इंडिया विश्वकप में अच्छा प्रदर्शन करेगी।

साल 2003, 2007 ,2011 और 2015 में खेले गए विश्वकप की बात करें तो 2003,2011 और 2015 में टीम इंडिया विश्वकप से पहले अपनी आखिरी सीरीज हारी थी लेकिन विश्वकप में टीम का प्रदर्शन शानदार रहा था। वहीं साल 2007 में टीम इंडिया विश्वकप से आखिरी सीरीज जीती थी और विश्वकप में पहले ही दौर में बाहर हो गई थी। इसके अलावा 2011 और 1983 विश्वकप में टीम इंडिया ने विजय हासिल की थी और उससे पहले विदेशी दौरे पर हार का सामना किया था।

साल 2003- इस साल विश्वकप साउथ अफ्रीका में खेला गया था। साउथ अफ्रीका पहुंचने से पहले टीम इंडिया न्यूजीलैंड में थी और वहां उसका प्रदर्शन बेहद खराब रहा था। टीम इंडिया यह सीरीज 5-2 से हारी थी। लेकिन विश्वकप में उसने फाइनल तक का सफर तय किया था। यह विश्वकप ऑस्ट्रेलिया के नाम रहा था।

साल 2007-यह विश्वकप वेस्टइंडीज में खेला गया था। टीम इंडिया इस विश्वकप में पहले ही दौर में बाहर हो गई थी। इस विश्वकप में टीम को बांग्लादेश ने पहले ही मैच में हराया और फिर श्रीलंका के खिलाफ हार ने टीम को ऐसा सदमा दिया जो आज भी फैंस को दुख पहुंचाता है। इस विश्वकप से पहले टीम इंडिया ने घरेलू वनडे सीरीज में श्रीलंका को 2-1 से मात दी थी। यह विश्वकप ऑस्ट्रेलिया के नाम रहा था।

साल 2011: भारत में खेले गए इस विश्वकप में टीम इंडिया चैंपियन बनी थी। विश्वकप से पहले टीम इंडिया साउथ अफ्रीका में थी और उसे वनडे सीरीज में 2-3 से हार का सामना करना पड़ा था।

साल 2015: ऑस्ट्रेलिया में खेले गए इस विश्वकप में टीम इंडिया ने सेमीफाइनल तक का सफर तय किया था। टीम को सेमीफाइनल में ऑस्ट्रेलिया ने हराया। उससे पहले टीम इंडिया न्यूजीलैंड के साथ एकलौटी टीम थी जिसने विश्वकप से बाहर होने से पहले सभी मुकाबले जीते थे। यह विश्वकप ऑस्ट्रेलिया के नाम रहा था।

 

नोट:इस लेख में केवल उन रिकॉर्ड को दिखाया गया है जो राइटर को याद था।