हल्द्वानी: जिस लम्हे का इंतजार का पूरे भारत को था वो आ ही गया। टीम इंडिया ने ऑस्ट्रेलिया को पहली बार उनकी धरती पर हराया।  सिडनी टेस्ट बारिश के कारण ड्रॉ रहा जिसने भारत की सीरीज़ जीत को सुनिश्नित कर दिया।भारतीय टीम ने 4 मैचों की सीरीज को 2-1 से अपने नाम किया।

चौथे टेस्ट में भारतीय टीम ने ऑस्ट्रेलिया को फॉलोऑन दिया था लेकिन बारिश के कारण मैच आगे नहीं बढ़ सका और टीम को ड्रॉ से संतोष करना पड़ा। भारत ने पहली पारी में 622 रन बनाए थे। जवाब में ऑस्ट्रेलिया की टीम 300 रनों पर ऑलआउट हो गई। ऑस्ट्रेलिया को घरेलू मैदान पर 31 साल बाद फॉलोऑन मिला। चौथे दिन सिर्फ 25.2 ओवर का ही खेल हो सका और 64.4 ओवर का खेल बारिश और खराब रोशनी की भेंट चढ़ गया था।

भारत की 71 साल में यह ऑस्ट्रेलिया दौरे पर पहली टेस्ट सीरीज जीत है। इससे पहले कोई भी भारतीय कप्तान टीम इंडिया को ऑस्ट्रेलिया की सरजमीं पर टेस्ट सीरीज जीत का स्वाद नहीं चखा सका था। भारत ने एडीलेड में पहला टेस्ट मैच 31 रन से जीता था। आस्ट्रेलिया ने पर्थ में दूसरे टेस्ट मैच में 146 रन से जीतकर वापसी की लेकिन भारत ने मेलबर्न में तीसरा मैच 137 रन से जीता और श्रृंखला में 2-1 की बढ़त बनायी जो आखिर में निर्णायक साबित हुई।

चेतेश्वर पुजारा को उनके शानदार खेल के लिए मैन ऑफ द मैच और मैन ऑफ द सीरीज घोषित किया गया। तीन शतक के सात उन्होंने सीरीज में 521 रन बनाए। चौथे टेस्ट के पांचवें दिन बारिश के कारण खेल नहीं हो सका। पहला सत्र बारिश की भेंट चढ़ गया था। ऐसे में चायकाल से पहले दोनों टीमों के कप्तानों के बीच मैच को बराबरी पर समाप्त करने पर सहमति बन गई। इससे पहले भारतीय टीम ने साल 2003/2004 की टेस्ट सीरीज़ में शानदार प्रदर्शन किया था। सौरभ गांगुली की अगवाई में टीम इंडिया ने सीरीज को 1-1 से ड्रॉ किया था और सीरीज जीतने के करीब पहुंची थी।