भारत के इस पूर्व खिलाड़ी को बनाया गया उत्तराखण्ड क्रिकेट टीम का कोच

हल्द्वानी: नए क्रिकेट सीजन की तैयारी उत्तराखण्ड में चल रही है। सीनियर टीम के लिए अंतिम 40 खिलाड़ियों के नाम सामने आ गए है। इस बार टीम की कमान गेस्ट प्लेयर के रूप में जुड़े उन्मुक्त चंद के कंधों पर है। यह पहला मौका है जब उत्तराखण्ड क्रिकेट टीम का संचालन एक एसोसिएशन द्वारा किया जाएगा। 13 अगस्त को उत्तराखण्ड क्रिकेट संचालन की जिम्मेदारी क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ उत्तराखण्ड को दे दी गई है। पिछले सीजन में उत्तराखण्ड क्रिकेट टीम का संचालन यूसीसीसी द्वारा किया गया था। उत्तराखण्ड क्रिकेट टीम ने पिछले सीजन रणजी में नॉक आउट में प्रवेश किया था। उत्तराखण्ड क्रिकेट टीम ने अपने शानदार प्रदर्शन ने अपना ग्रुप टॉप किया था और इस बार वो ELITE ग्रुप में खेलेगी।

Image result for gursharan singh cricket

नए सीजन की तैयारी शुरू हो गई है। फिलहाल अभी सीनियर और अंडर-19 टीम की चयन को लेकर ट्रायल प्रक्रिया चल रही है। इस सीजन के लिए उत्तराखण्ड क्रिकेट टीम का कोच भारत के पूर्व खिलाड़ी गुरशरण सिंह को बनाया गया है। गुरशरण सिंह पिछले सत्र में अरुणाचल प्रदेश की टीम के मुख्य कोच थे। इस बार वह उत्तराखंड सीनियर टीम की कमान संभालते नजर आएंगे। गुरशरण सिंह ने एक अंतरराष्ट्रीय टेस्ट व एक अंतरराष्ट्रीय वन-डे मैच खेला है। वहीं, 104 फर्स्ट क्लास मैच में 5718 रन बनाए हैं। सीएयू संयुक्त सचिव महिम वर्मा ने बताया कि गुरशरण सिंह के अनुभव को देखते हुए उन्हें सीनियर टीम का कोच नियुक्त किया गया है।  पिछले सीजन में उत्तराखण्ड टीम के कोच भास्कर पिल्लई थे।

गुरशरण सिंह के नाम एक खास रिकॉर्ड है। साल 1983-84 में वेस्टइंडीज के खिलाफ टेस्ट मैच में बतौर अतिरिक्त खिलाड़ी वो फिल्डिंग करने उतरे थे। उन्होंने इस मैच में 4 कैच पकड़े थे और बतौर अतिरिक्त खिलाड़ी ये कारनामा करने वाले वो एकलौते खिलाड़ी है।

यह भी पढ़ेंः उत्तराखंडः पहले युवक की गला काटकर की हत्या, फिर शव जंगल में फेंका

यह भी पढ़ेंः उत्तराखंड सनसनीः कमरे में पंखे से लटका मिला पॉलीटेक्निक के छात्र का शव

यह भी पढ़ेंः MBPG छात्रसंघ चुनाव अपडेट: अध्यक्ष पद पर निर्दलीय राहुल धामी का कब्जा

यह भी पढ़ेंः नैनीतालः पिता ने 6 साल के बेटे को जबरदस्ती पिलाई शराब, रोंगते खड़े कर देगी वजह

यह भी पढ़ेंः रुद्रपुरः पिता ने बेटे को PUBG खेलने से रोका, तो बेटे ने पिता को ही बेरहमी से पीट डाला