उत्तराखण्ड को मिली विजय हजारे ट्रॉफी की मेजबानी, भारतीय खिलाड़ियों को देखेंगे फैंस

देहरादून: क्रिकेट के मैदान से उत्तराखण्ड के फैंस के लिए अच्छी खबर आने का सिलसिला जारी है। दिलीप ट्रॉफी मैच के आयोजन के बाद अब विजय हजारे के लिए आयोजन को लेकर बड़ी खबर सामने आ रही है। वनडे टूर्नामेंट विजय हजारे ट्रॉफी की मेजबानी इस बार उत्तराखंड को मिल रही है। प्लेट लीग मुकाबलों के अलावा नॉक आउट मैच भी राजधानी देहरादून स्थित राजीव गांधी अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम, अभिमन्यु क्रिकेट एकेडमी ,कसिगा स्कूल और सेलाकुई इंटरनेशनल स्कूल के मैदान में खेले जाएंगे। इस ग्रुप में उत्तराखण्ड के अलावा मेघालय, मणिपुर, मिजोरम, अरुणाचल प्रदेश, सिक्किम, पुडुचेरी और असम की टीम शामिल होगी।  बीसीसीआई की टीम ने उत्तराखंड से आयोजन स्थलों का प्रस्ताव भी मांग लिया है।  

उत्तराखंड दूसरे साल बीसीसीआई के घरेलू क्रिकेट टूर्नामेंट में  भाग लेने के लिए तैयार है। विजय हजारे के नाम के साथ उत्तराखण्ड का कनेक्शन क्रिकेट डायरी पर अमर है क्योंकि पिछले साल उत्तराखण्ड के सलामी बल्लेबाज करणवीर कौशल ने 200 रनों की पारी खेलकर इतिहास रचा था।  उत्तराखंड में क्रिकेट स्टेडियम और सुविधाओं को देखते हुए विजय हजारे के आयोजन की कमान राज्य को मिली है। 

विजय हजारे के आयोजन के विषय में बीसीसीआई के अधिकारियों और पिच क्यूरेटर ने बीते दिनों बकायदा मैदानों का निरीक्षण कर चयन भी कर लिया है। कहा जा रहा है कि राजीव गांधी अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम, अभिमन्यु क्रिकेट एकेडमी के साथ ही कसिगा स्कूल और सेलाकुई इंटरनेशनल स्कूल के मैदान में विजय हजारे के लीग और नॉक आउट मैचों का आयोजन हो सकता है। जबकि फाइनल राजीव गांधी अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम में होगा। यह आयोजन किसी सपने से कम नहीं है क्योंकि उत्तराखण्ड के फैंस लंबे वक्त से भारतीय स्टार्स को अपने होम ग्राउंड में खेलता देखना चाहते हैं।

इस बारे में बीसीसीआई के स्थानीय कॉर्डिनेटर अमित पांडे ने कहा कि दूसरे साल में इतनी बड़ी जिम्मेदारी मिलना राज्य के लिए गर्व की बात है। टूर्नामेंट के संबंध में बीसीसीआई ने विस्तृत रिपोर्ट मांगी थी। आयोजन स्थलों और अन्य सुविधाओं के संबंध में रिपोर्ट बनाकर भेज दी गई है।