PM मोदी ने तुंणगी गांव के प्रधान को सराहा,ऐसे ही युवाओं को करना है उत्तराखंड का भला

देहरादून: विश्व जल दिवस पर देश में जल शक्ति अभियान की शुरुआत हो गई है। देश के पांच ग्राम प्रधानों से वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बात की। इस लिस्ट में उत्तराखंड से देवप्रयाग ब्लॉक के तुंणगी गांव के युवा प्रधान अरविंद जियाल (24) भी शामिल रहे। अरविंद जियाल ने गांव में जल संरक्षण हेतु किए जा रहे कार्यों के बारे में बताया। पीएम मोदी ने उन्हें ध्यान पूर्वक सुना। उन्होंने प्रधान से कहा कि उत्तराखंड का भला करना है तो पहाड़ का पानी पहाड़ में ही लगाना होगा। तभी पहाड़ की जवानी भी काम आएगी’।  यानी पहाड़ को बचाने के लिए युवाओं को आगे आना होगा।

सोमवार को जिला मुख्यालय पर पीएम मोदी और प्रधान अरविंद जियाल के बीच दोपहर चार मिनट हुई बातचीत हुई। प्रधान ने बताया कि पहाड़ों में पानी की कमी जरूर है लेकिन इसे कम किया जा सकता है। उन्होंने अपने द्वारा किए गए सर्वे के बारे में पीएम को बताया। प्रधान ने बताया कि वह गंगा उद्गम स्थल देवप्रयाग से है। पहाड़ की ऊंचाई वाली जगहों में छानी व चाल खाल के माध्यम से भूजल के स्तर को बढ़ाया जाता था। गांव की महिलाओं ने पौधारोपण कर यहां जल स्तर बनाए रखने का काम कर रही हैं।

यह भी पढें: रानीखेत की रश्मि रौतेला को दीजिए बधाई…पिता की तरह बेटी पहनेगी भारतीय सेना की वर्दी

यह भी पढें: नैनीताल आने वाले सैलानी ध्यान दें,कोरोना वायरस को देखते हुए जिला प्रशासन ने उठाया बड़ा कदम

यह भी पढें: एक दिन में कुछ श्रद्धालु ही कर पाएंगे मां पूर्णागिरी के दर्शन, जारी हो गई SOP

यह भी पढें: नैनीताल में डीएम का कोरोना अलर्ट,बिना मास्क वालों पर एक्शन हेतु पुलिस को दी खुली छूट

प्रस्तावित मनरेगा के कार्यों में जल संरक्षण को भी रखा गया है। बारिश के पानी को इस्तेमाल किया जाना चाहिए। उसे गड्ढों में जमा कर भूजल स्तर को बढ़ाने का काम किया जा रहा है। इसके अलावा गदेरे को मोड़कर ग्रामीण नहर के जरिए अपने खेतों तक पानी पहुंचा रहे है। इससे जल स्रोतों को रिचार्ज जा रहा है। प्रधान जियाल ने बताया कि वह 2015-16 से वन्य जीव संस्थान से जुड़कर वह यह काम कर रहे हैं। वह भारत के पहले गंगा प्रहरी भी है। पांच राज्यों में गंगा प्रहरियों की टीम काम कर रही है। गांव वासियों ने उन्हें तुणगी का निर्विरोध प्रधान चुना है। प्रधान ने बताया की शांता नदी यहां से निकल कर गंगा में मिलती है।

पीएम मोदी प्रधान की बातों से प्रभावित दिखे… उन्होंने कहा कि मैं कई बार उत्तराखंड आया हूं। मैंने यहां देखा है कि पहाड़ का पानी व जवानी पहाड़ के काम नहीं आती। पहाड़ का आदमी रोजी रोटी के लिए पहाड़ छोड़ देता है। जो पानी आता है वह सब बह जाता है। प्रधानमंत्री ने कहा कि उत्तराखंड का भला करना है तो पहाड़ का पानी पहाड़ में ही लगाना होगा। तभी पहाड़ की जवानी भी काम आएगी।   पीएम मोदी के साथ प्रधान की हुई बातचीत के बाद ग्रामीण काफी खुश नजर आए। युवा प्रधान अरविंद जियाल के परिजनों ने गांव में मिठाई बांटी और जश्न मनाया।

Join WhatsApp Group & Facebook Page

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा WhatsApp Group ज्वाइन करें।
Join Now

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा Facebook Page लाइक करें।
Like Now