खिसक रही जमीन, रहने लायक नहीं अब पिथौरागढ़ जिले का भौगड़ा तोक गांव

खिसक रही जमीन, रहने लायक नहीं अब पिथौरागढ़ जिले का भौगड़ा तोक गांव

पिथौरागढ़: राज्य के कई गांव में जमीन खिसकने के मामले सामने आते हैं। इस वजह से लोगों में डर बना रहता है लेकिन जिस जमीन में उन्होंने अपनी जिंदगी की पूरी कमाई छोड़ दी है उसे कैसे छोड़ सकते हैं। पिथौरागढ जिले के खेतार कन्याल गांव का भौगड़ा तोक भी इस समस्या से जूझ रहा है। गांव में लगातार जमीन खिसक रही है। भूगर्भ वैज्ञानिक प्रदीप कुमार का कहना है कि यह स्थान अब रहने के लायक नहीं है। उन्होंने तोक का दौरा किया और प्रशासन से कहा है कि गांव के परिवारों को जल्द से जल्द सुरक्षित स्थानों में भेजा जाए।  भौगड़ा तोक में इस समय पांच परिवार हैं। सभी का कहना है कि कहा जिला प्रशासन त्वरित कदम उठाए। वे लोग लोग डर के साये में रहने को मजबूर हैं। कभी भी कोई हादसा हो सकता है। यह सोचकर रात को भी नींद नहीं आती है।

यह भी पढ़ें: ब्रेकिंग न्यूज: केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान का निधन

यह भी पढ़ें:उत्तराखंड:मैच के दौरान क्रिकेट Players के बीच मारपीट, बैट से एक दूसरे पर किए वार

बता दें कि तहसील प्रशासन, कृषि विभाग और भूगर्भ वैज्ञानिक प्रदीप कुमार ने संयुक्त रूप से भौगड़ा तोक का निरीक्षण किया। फिलहाल गांव में पांच परिवार रहते हैं। भूगर्भ वैज्ञानिक का कहना है कि भविष्य में भौगड़ा में जमीन नहीं टिक पाएगी। पीड़ित परिवारों को जल्द मुआवजा देने के साथ अन्य जगह बसाने की कवायद की जाएगी। उन्होंने राजस्व उपनिरीक्षक धनीलाल से पीड़ित परिवारों के लिए जमीन उपलब्ध कराने के साथ ही कृषि विभाग के एडीओ अनुज कुमार से जल्द ही कृषकों को फसलों का मुआवजा देने को कहा। इस दौरान खेतार कन्याल के प्रधान महेश सिंह कन्याल मौजूद रहे।  

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड:ITBP की बस अनियंत्रित होकर घर की छत पर पहुंची, इसे चमत्कार कहिये

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड में अजब-गजब, शादी के लिए प्रेमिका ने प्रेमी के घर पर दिया धरना

Join WhatsApp Group & Facebook Page

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा WhatsApp Group ज्वाइन करें।
Join Now

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा Facebook Page लाइक करें।
Like Now