उत्तराखंड में पहले से जल्दी मिलेगी कोरोना रिपोर्ट, बॉर्डर पर दोबारा शुरू हुआ सैंपल लेने का सिलसिला

सचिव स्वास्थ्य अमित नेगी ने बताया प्रतिदिन 10 से 12 हज़ार लोगों के लिए जा रहे हैं सैंपल।

हल्द्वानी: कोरोना का जाल पूरे देश में फैला हुआ है और आए दिन लोग इसमें फंसने में लगे हैं। कोविड नियमों का पालन करवाने के लिये केंद्र सरकार, उत्तराखंड राज्य सरकार और पुलिस व मेडिकल प्रशासन हर तरह की कोशिशों में लगे हुए हैं। स्वास्थ्य विभाग भी कोरोना की रोकथाम और लोगों में कोविड के लिये जागरुकता फैलाने में लगा हुआ है। फिलहाल विभाग का मुख्य फोकस ज़्यादा से ज़्यादा कोरोना की जांच कराए जाने पर है।

स्वास्थ्य सचिव अमित नेगी ने भी हो रहे प्रयासों की जानकारी दी और कहा कि विभाग की कोशिश है कि पहाड़ी इलाकों में सैंपल लेने के बाद ज़्यादा से ज़्यादा 48 घंटों और मैदानी क्षेत्रों में 24 घंटे के भीतर लोगों तक कोविड की जांच रिपोर्ट पहुंच सके। बता दें कि राज्य में रोज़ाना 10 से 12 हज़ार व्यक्तियों के सैंपल लिए जा रहे हैं।

यह भी पढ़ें: हल्द्वानी: स्मार्ट बनेंगे आपके बच्चे, 150 से भी ज़्यादा सरकारी स्कूलों में एलईडी टीवी और DTH

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड:वीडियो वायरल केस में DIG अरुण मोहन जोशी ने तीन पुलिसकर्मियों को किया सस्पेंड

स्वास्थ्य सचिव ने सचिवालय में कुछ ज़रूरी बातें सामने रखी। उन्होंने कहा कि केंद्र के निर्देशों का पालन करने के लिए प्रदेश ने भी आदेश जारी कर दिए गए हैं। सभी जिलों में सतर्कता बरती जा रही है और जागरिकता अभियान चलाए जा रहे हैं। जनता से मास्क पहनने, सैनैटाइज़र इस्तेमाल करने और शारीरिक दूरी बनाए रखने की अपील की जा रही है। इसके अलावा आयुष्मान विभाग को भी कोरोना की रोकथाम के लिए काम सौंपा गया है।

दरअसल आयुष्मान भारत के कार्यालय में हेल्पलाइन स्थापित की गई है, जिसके द्वारा रोज़ तकरीबन तीन से चार हज़ार लोगों से स्वास्थ्य संबंधित जानकारी ली जा रही है। यही नहीं अगर किसी में शुरुआती लक्षण हैं, तो उनके उपचार की भी व्यवस्था के प्लान भी बनाए गए हैं। सचिव अमित नेगी ने यह भी बताया कि मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत द्वारा सभी विभागों के अधिकारियों को केंद्र सरकार के तरफ से संचालित योजनाओं की समीक्षा करने को कहा गया है।

यह भी पढ़ें: नैनीताल जिले में बनेंगे दो हैलीपैड, करोड़ों का आएगा खर्चा, जिला प्रशासन की तैयारी शुरू

यह भी पढ़ें: दून जाना होगा खर्चिला,हरिद्वार-देहरादून नेशनल हाईवे का इस्तेमाल करने वाले वाहनों से टैक्स वसूलने की तैयारी

उत्तराखंड में कोरोना के आंकड़ों पर नज़र डालें तो यह अंदाज़ा लगाया जा सकता है कि कोविड अभी भी हमारे देश को छोड़ने के लिए तैयार नहीं है। प्रदेश में कोरोना के मामलों में लगातार बढ़ोत्तरी हो रही है। नवंबर महीने में अब तक तकरीबन 7500 से ज़्यादा लोग कोविड संक्रमित पाए जा चुके हैं। शुक्रवार को प्रदेश में 512 लोग कोरोना पॉजिटिव निकले हैं। स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक देहरादून में 204, नैनीताल में 43, पिथौरागढ़ में 27, हरिद्वार में 39, पौड़ी गढ़वाल में 35, ऊधमसिंह नगर में 22, चमोली में 45 और टिहरी में 23, बागेश्वर में 14, अल्मोड़ा में 16 और चंपावत में 12 लोग कोरोना संक्रमित पाए गए।

इसके अलावा प्रदेश में अब तक तकरीबन 1138 कोरोना मरीजों की मौत भी हो चुकी है। शुक्रवार को 5 मरीजों की मौत की पुष्टि हुई है। कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए अब उत्तराखंड के बॉर्डर पर दोबारा से कोविड टेस्ट हो रहा है। देहरादून डीएम के आदेश के बाद टेस्ट प्रक्रिया को शुरू किया गया है। दिल्ली से आ रहे कुछ लोग कोरोना संक्रमित पाए गए, जिन्हें वापस भेज दिया गया। लेकिन अच्छी बात यह भी है कि राज्य में सही होने वाले मरीजों की संख्या में भी प्रतिदिन बढ़ोत्तरी हो रही है। नए मामलों से ज़्यादा मरीज हर दिन स्वस्थ हो रहे हैं। आने वाले समय में देखना होगा कि किस तरह से कोरोना पर रोकथाम की जाती है। आप भी कोविड नियमों का पालन कीजिए और अपने परिजनों और दोस्तों में भी कोरोना के प्रति जागरुकता फैलाने की कोशिश कीजिए।

यह भी पढ़ें: नैनीताल जा रही रोडवेज बस में छेड़छाड़,युवती ने अधेड़ को भरी बस में जड़ दिया थप्पड़

यह भी पढ़ें: मशरूम की पैदावार बढ़ाएगी उत्तराखंड में रोजगार,बीस हज़ार युवाओं के लिये सरकार का खास प्लान

Join WhatsApp Group & Facebook Page

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा WhatsApp Group ज्वाइन करें।
Join Now

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा Facebook Page लाइक करें।
Like Now