बालाकोट के Hero उत्तराखंड के ग्रुप कैप्टन यशपाल सिंह नेगी, दो मेडल से सम्मानित हुए

नई दिल्ली: पाकिस्तान को भारत ने हर बार मुंह तोड़ जवाब दिया है। उरी हमले के बाद सर्जिकल स्ट्राइक हो या फिर बालाकोट की कार्यवाही, दोनों ने पाकिस्तान की नींद गायब कर दी थी। उसे पता चल गया कि ये नया इंडिया है, जो बोलने से ज्यादा करने में विश्वास रखता है। वायु सेना दिवस के मौके पूरे देश ने अपने जवानों को सलामी दी। सोशल मीडिया पर तरह-तरह के पोस्ट देखने को मिले। भारतीय सेना को उत्तराखंड ने भी कई जवान दिए हैं ,जिन्होंने अपने कर्म से सभी का सिर गौरव से ऊंचा किया है। पाकिस्तान के खैबर-पख्तूनख्वा प्रांत के बालाकोट इलाके में जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी लॉन्चपैड पर बम गिराने की योजना बनाने और उसे अंजाम में उत्तराखंड के ग्रुप कैप्टन यशपाल सिंह नेगी की अहम भागेदारी रही थी। इस कार्य के लिए उन्हें दो पदकों से सम्मानित किया गया है। यशपाल उन चुनिंदा अफसरों में शामिल हैं, जिन्होंने बालाकोट में हुए सर्जिकल स्ट्राइक की पूरी प्लानिंग की थी।

यह भी पढ़ें: ब्रेकिंग न्यूज: केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान का निधन

यह भी पढ़ें:उत्तराखंड:मैच के दौरान क्रिकेट Players के बीच मारपीट, बैट से एक दूसरे पर किए वार

बृहस्पतिवार को वायु सेना के 88वें स्थापना दिवस पर गाजियाबाद स्थित हिंडन वायु सेना स्टेशन में आयोजित कार्यक्रम में वायु सेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल राकेश कुमार भदौरिया ने उन्हें यह पदक प्रदान किए। बालाकोट के लिए उन्हें युद्ध सेवा मेडल जबकि वायु सेना में उल्लेखनीय सेवा के लिए उन्हें विशिष्ट सेवा मेडल से नवाजा गया। इससे पहले स्वतंत्रता दिवस के मौके पर भी उन्हें वायु सेना मेडल के लिए सम्मानित किया जा चुका है। साल 1990 में एनडीए में चुने गए ग्रुप कैप्टन यशपाल सिंह नेगी मूलरूप से टिहरी गढ़वाल के निवासी हैं।उस समय उनकी ऑल इंडिया में पांचवीं रैंक आई थी। उनका परिवार देहरादून में रहता है। वर्तमान में वह एयर फोर्स स्टेशन श्रीनगर में तैनात हैं।

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड:ITBP की बस अनियंत्रित होकर घर की छत पर पहुंची, इसे चमत्कार कहिये

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड में अजब-गजब, शादी के लिए प्रेमिका ने प्रेमी के घर पर दिया धरना

तीन साल एनडीए में ग्रेजुएशन पूरी करने के बाद ग्रुप कैप्टन नेगी छह माह इलाहाबाद, छह माह हैदराबाद ट्रेनिंग में चले गए। 16 दिसंबर 1995 में वह एयर फोर्स के फ्लाइंग ब्रांच में पायलेट के तौर पर उनकी नियुक्ति हुई। वह पिछले 25 सालों सवायु एरिया के लिए सुरक्षा कवच का काम कर रहे हैं। वह एक कॉम्बेट पायलेट हैं जो वायु सेना में फाइटिंग भी करते हैं के अलावा मिसाइल भी छोड़ते हैं। टार्गेट को साधने के लिए वह पूरी रणनीति भी तैयार करते हैं। वायु सेना दिवस पर दो-दो मेडल लेकर उत्तराखंड का नाम भी ऊंचा किया है। हल्द्वानी लाइव की ओर से ग्रुप कैप्टन यशपाल सिंह नेगी बहुत-बहुत बधाई, आप जैसे ऑफिसर हमारे युवाओं को प्रेरित करते हैं।

यह भी पढ़ें: रानीबाग में स्टील ग्रेडर टू-लेन पुल का काम शुरू, भीमताल जाते वक्त अब जाम नहीं

यह भी पढ़ें: चल गया डीएम सविन बंसल का प्लान, ऐपण को पहचान भी और लोगों को स्वरोजगार भी

Join WhatsApp Group & Facebook Page

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा WhatsApp Group ज्वाइन करें।
Join Now

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा Facebook Page लाइक करें।
Like Now