हल्द्वानी: पुरानी आईटीआई में ग्रामीणों ने संदिग्ध को पकड़ा, पुलिस को सौंपा

1478

हल्द्वानी: शहर में बढ़ती नकारात्मक घटनाओं के चलते लोग सतर्क हो गए है। वो अपनी आसपास आने-जाने वाले लोगों पर नजर बनाए हुए है। यह पहला मौका है जब हल्द्वानी में दहशत ने लोगों के दिल में इतना डर बना दिया है। रात में ग्रामीण सुरक्षा के लिए गश्त कर रहे हैं। इसी बीच बरेली रोड स्थित पुरानी आईटीआई आवला चौकी में ग्रामीणों ने एक संदिग्ध को पकड़ा। उसके साथ एक साथी भी था जो अपने आप को पुलिस कर्मी बता रहा था। जब लोगों की भीड़ ने उन्हें दबोचा को एक साथी भाग खड़ा हुआ। वहीं एक संदिग्ध की ग्रामीणों ने पिटाई कर दी। उसके बाद पुलिस को फोन कर मामले की सूचना दी गई और संदिग्ध को वनभूलपूरा थाने ले आए।

पुलिस पूछताछ में युवक ने अपना नाम जीवन लाल पुत्र पदम लाल निवासी धारचूला बताया। उसने बताया कि वो पंचायत घर के पास अपने जीजा के वहां रहता है। वनभूलपूरा थाना दरोगा मंगल सिंह ने कहा कि कोई भी किसी भी जगह घूमने के लिए स्वतंत्र है। किसी की पिटाई करने का अधिकार किसी के पास नहीं है। हमने युवक से जानकारी ले ली है और अगर ये गलत साबित होती है तब आगे की कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने ग्रामीणों को हिदायत दी कि कोई भी एक्शन लेने से पहले पुलिस को पहले सूचित करें।

ग्राम प्रधान मनोज मठपाल ने बताया कि युवक अपने साथी के साथ लोगों से घर और रोड पर खड़ी बाइक के बारे में पूछ रहा था। इसके बाद जब उसे पूछताछ की तो वो गाली गलौज कर अपने आप को पुलिस कर्मी बताने लगा। शक होने पर उससे पहचान आईडी मांगी गई तो वो देने में नाकाम रहा और एक साथी भाग गया। जीवन लाल ने भी शुरू में अपने आप को पुलिस कर्मी बताया, उसके बाद वो कभी अपने आप को नैनीताल व धारचूला का कहने लगा। शहर के माहौल को देखते हुए ग्रामीणों ने उसकी पिटाई कर दी, जिसके बाद उसे पुलिस को सौंप दिया।

पुरानी आईटीआई में दो संदिग्ध युवक घूमते हुए नजर आए। ग्रामीणों की पूछताछ में एक भाग गया तो वहीं दूसरे को ग्रामीणों ने पकड़ लिया। ग्रामीणों ने इस मामले की सूचना वनभूलपूरा पुलिस को दी जिसके बाद युवक को थाने ले जाया गया। युवक ने अपना नाम जीवन लाल बताया है।

Posted by Haldwanilive on Wednesday, 11 July 2018

उन्होंने कहा जीवन लाल जिस युवक के साथ घूम रहा था उसे ना जानने की बात बोल रहा था इस कारण से लोगों का उसपर शक गहरा हो गया। उन्होंने साफ किया कि पुलिस ग्रामीणों पर मारपीट का आरोप लगाने के बजाए सुरक्षा पर ध्यान दें। हमें सतर्क रहने की बात कही जा है और हम वहीं कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि मारपीट की नौबत तब आई जब युवक अपने आप को पुलिस कर्मी बताने लगा, उसके बाद वो गाली गलौच कर रहा था।