हल्द्वानी:  अपनी बहन की धूमधाम से शादी कराने की तमन्ना हर भाई की होती है। उसकी कोशिश रहती है कि वो अपनी बहन को खुशी से विदा कर सके ऐसा ही सपने अल्मोड़ा के शहीद सूरज सिंह भाकुनी के थे लेकिन  शनिवार शाम एक धमाके में जम्मू-कश्मीर के अखनूर सेक्टर में शहीद हो गया।

हल्द्वानी लाइव के चैनल को YOUTUBE पर जरूर Subscribe करें

सूरज की शहादत की खबर रविवार को गांव में पहुंची तो कोहराम मच गया। शहीद के पिता नारायण सिंह भाकुनी कहते हैं कि ‘मौत तो सबको आनी है, लेकिन मुझे गर्व है कि उनका बेटा देश के लिए शहीद हुआ।’ किसी को विश्वास नहीं हो रहा है कि एक हफ्ते पहले घर से ड्यूटी को लौटा सूरज अब शहीद होकर घर लौटेगा। साल 2014 में सूरज का चयन भारतीय सेना में हुआ था।

उत्तराखंड: बागेश्वर के एक हादसे ने खोल दी स्वास्थ्य सुविधाओं की पोल…

पिता बताते है कि बेटे को बचपने से फौज में भर्ती होना सुर सवार था। सूरज को अपनी बहन की शादी की भी बहुत चिंता रहती थी। सूरज की बहन की शादी तय हो चुकी है और अगले साल मई जून महीने में उसकी शादी होनी थी। सूरज ने इस बार घर आने पर बहन के लिए जेवर भी बना लिए थे।

यह भी पढ़े:ऑल्ड एज डिप्रेशन का शिकार बुजुर्गों को परेशानी से निजात दिलाएगी मनोचिकित्सक डॉ. नेहा शर्मा की ये टिप्स

सूरज की दादी रूपली देवी, मां सीता देवी और बहन राधा को अभी तक सूरज के शहीद होने की जानकारी नहीं दी गई है। उन्हें बताया गया है कि वो घायल हुआ है।सूरज अपने घर में एकमात्र कमाने वाला था। नया घर बनाने के लिए सूरज ने अपने पिता को पैसे भी दिए थे। सूरज के छुट्टी में आने के दौरान नया घर बनकर तैयार भी हो गया था। सूरज की कमाई से ही घर का खर्चा चल रहा था। सूरज के पिता की भनोली में एक छोटी सी दुकान है। सूरज से जब गांव वाले उसकी शादी के बारे में पूछते थे तो वह पहले बहन की शादी की बात करता था।