पहाड़ के घिरौली गांव की महिलाएं बनीं उद्यमी, Organic खेती से कमा रही हैं लाखों रुपए

बागेश्वर: महिलाएं अब परिवार की इनकम में भी हाथ बढ़ा रही हैं। सब्ज़ी पकाने के साथ साथ वह अब सब्जी उगा भी रही हैं। हम बागेश्वर की बात कर रहे हैं। यहां नगरपालिका क्षेत्र से सटे घिरौली गांव की महिलाएं पुरुषों के कंधों से कंधा तो मिला ही रही हैं। साथ ही अन्य महिलाओं के लिए प्रेरणा भी साबित हो रही हैं।

घिरौली गांव में एक तरफ जहां उद्यान विभाग की मेहनत रंग ला रही है तो वहीं इसी रंग को और निखारने का काम यहां की महिलाएं कर रही हैं। उद्यान विभाग की ओर से किसानों को खाद और कीटनाशक उपलब्ध कराए जा रहे हैं। जिसका बड़ा फर्क किसानों की कमाई पर दिख रहा है। गांव की महिलाएं तो सब्ज़ियां उगाकर सालभर में एक-एक लाख रुपए तक कमा रही हैं।

यह भी पढ़ें: बिन्दुखत्ता की ‘कंचन परिहार’ का कमाल, महिला वनडे टीम में बनी उपकप्तान

यह भी पढ़ें: हल्द्वानी-बरेली रोड पर भीषण सड़क हादसा, एक ही परिवार के चार लोगों की मौत

परिवार की मदद से गांव की शशिकला रावत दस नाली जमीन पर सब्जियों का उत्पादन कर रही हैं। उनके खेतों की फसलों में खासकर बंदगोभी की फसल ने अबतक तीस हज़ार रुपए की कमाई करा दी है। उन्होंने बताया कि एक साल में एक लाख तक इनकम होने लगी है।

इस कार्य के साथ ही शशिकला रावत गाय, भैंसों को पाल कर उनके गोबर से खाद बनाकर जैविक खेती को आगे ले जा रही हैं। इसके अलावा गोमूत्र का उपयोग कीटनाशक के तौर पर कर रही हैं।

यह भी पढ़ें: पिथौरागढ़ की श्वेता वर्मा का टीम इंडिया में हुआ चयन,पापा के सपने को मां के संर्घष ने किया पूरा

यह भी पढ़ें: नैनीताल को मिली करोड़ों की सौगात,पार्किंग की छत पर बनेगा पहाड़ी फूड कोर्ट

गामव की दयमंती रावत, गीता देवी भी इस क्षेत्र में आगे बढ़ रही हैं। उनके खेतों में बंद गोभी, मटर, टमाटर के अलावा प्याज और लहसून की फसलें लहरा रही हैं। महिलाओं ने उद्यान विभाग का भी मदद के लिए आभार जताया।

गांव में माहौल इस कदर है कि बाज़ार में जाने से पहले ही सब्ज़ियां घर से बिक जा रही हैं। अभी तक 20-20 हजार रुपये की सब्जियां बेच चुकी दोनों महिलाओं ने कहा कि अन्य लोग भी अब नकदी फसलों की तरफ बढ़ रहे हैं और आर्थिक स्थिति सुधर रही है।

जिला उद्यान अधिकारी आरके सिंह ने बताया कि घिरौली गांव की मेहनतकश महिलाओं ने सब्जी उत्पादन को नए आयाम दिए हैं। उन्होंने कहा कि उद्यान विभाग के द्वारा महिलाओं को बीज आदि निश्शुल्क दिया जाएगा और अच्छी उत्पादन करने वाली महिलाओं को सम्मानित भी किया जाएगा।

यह भी पढ़ें: ढेर सारी बधाई….नेशनल मार्शल आर्ट्स चैंपियनशिप में मालकोटी गांव के बेटे ने जीता सिल्वर मेडल

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड रोडवेज बस ने बाइक सवार दंपत्ति को मारी टक्कर,महिला ने मौके पर तोड़ा दम

Join WhatsApp Group & Facebook Page

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा WhatsApp Group ज्वाइन करें।
Join Now

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा Facebook Page लाइक करें।
Like Now