उत्तराखंड कैबिनेट का विस्तार आज, बंशीधर भगत को मिल सकता है बड़ा पद

हल्द्वानी: त्रिवेंद्र सिंह रावत के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने के बाद तीरथ सिंह रावत ने उत्तराखंड की कमान संभाल ली है। एक्शन में दिख रहे नए सीएम आज ही मंत्री मंडल में विस्तार कर सकते हैं। कई तरह के कयास लगाए जा रहे हैं। कई सीनियर विधायकों के नाम पर भी चर्चा चल रही है।

लिहाजा तीरथ सिंह रावत के सामने चुनौतियां बड़ी है। बड़ी इसलिए हैं क्योंकि साल भर में चुनाव होने हैं। ऐसे में तथाकथित तौर पर पूर्व सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत की घटती लोकप्रियता से घटे वोट बैंक को फिर से बढ़ाना होगा।

यह भी पढ़ें: हल्द्वानी लौटे दीक्षांशु नेगी का हुआ भव्य स्वागत, IPL के लिए युवाओं ने कहा ऑल द बेस्ट

यह भी पढ़ें: बाबा हैडाखान क्रिकेट क्लब ने जमाया विंटर कप पर कब्जा, जीत में चमके प्रभाकर नैनवाल

इसी सिलसिले में भाजपा और उत्तराखंड के नवनिर्वाचित मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत बिलकुल भी आराम करने के मूड में नहीं हैं। सीएम बनने के बाद गुरुवार को तीरथ सिंह रावत ने शैलेश बगोली को अपना सचिव नियुक्त किया है। साफ छवि वाले आईएएस शैलेश बगोली के साथ तीरथ सिंह रावत जल्द ही अपनी टीम तैयार कर लेंगे।

बहरहाल टीम में मंत्री मंडल भी आता है। कैबिनेट के विस्तार की भी चर्चाएं हवा पकड़ रही हैं। खबरों की मानें तो आज ही तीरथ सरकार की कैबिनेट का विस्तार हो सकता है। जिसमें कई सीनियर विधायकों और नए चेहरों को भी जगह मिलने के कयास लगाए जा रहे हैं। इसके अलावा सूत्रों में गौर करने वाली बात यह भी है कि प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत को भी मंत्रिमंडल में पद मिल सकता है।

यह भी पढ़ें: हल्द्वानी बाजार में मौका नहीं मिला तो मचाई श्याम मार्बल में लूट,खुलासे में सामने आई सच्चाई

यह भी पढ़ें: रंग लाई 11 साल की मेहनत, हरी सब्ज़ियां उगाकर लाखों कमा रहे हैं चंपावत के नवीन

अगर ऐसा होता है तो उत्तराखंड में भाजपा को एक नया प्रदेश अध्यक्ष भी मिल सकता है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार मदन कौशिक को नया प्रदेश अध्यक्ष बनाया जा सकता है।

लाजमी है कि त्रिवेंद्र सिंह रावत का इस्तीफा देने का एक बड़ा कारण यह भी माना जा रहा था कि बहुत से विधायक उनसे नाराज थे। नाराज किस बात से थे यह तो चर्चा का केंद्र हो सकता है। मगर भाजपा और तीरथ सिंह रावत के पास केवल दस महीने हैं जिसमें उन्हें हर विधायक का भरोसा जीतना है वरना भाजपा के लिए ऑल इज़ वैल कहने में दिक्कतें हो जाएंगी। देखना दिसचस्प होगा कि किन विधायकों को मौका मिलता है। इससे नए सीएम की मानसिकता का भी पता चल सकेगा।

यह भी पढ़ें: चुनाव भी लड़ा और Miss मेरठ भी रहीं, किसी से कम नहीं हैं उत्तराखंड के नए CM की पत्नी

यह भी पढ़ें: गैरसैंण मंडल पर लिए गए फैसले को पलट सकती है तीरथ सरकार,मिलने लगे हैं संकेत

Join WhatsApp Group & Facebook Page

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा WhatsApp Group ज्वाइन करें।
Join Now

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा Facebook Page लाइक करें।
Like Now