बड़ी खबर, उत्तराखण्ड के मयंक मिश्रा ने हैट्रिक लेकर रचा इतिहास, पहले खिलाड़ी बनें

हल्द्वानी: दो दिन पहले भारत के लिए दीपक चाहर ने बांग्लादेश के खिलाफ हैट्रिक लेकर इतिहास रचा था। वह टी-20 में भारत के लिए हैट्रिक लेने वाले पहले खिलाड़ी बनें थे। इसी राह पर उत्तराखण्ड के मयंक मिश्रा को भी बड़ी कामयाबी मिली है। सैयद मुश्ताक अली टी-20 ट्रॉफी में मयंक ने गोवा के खिलाफ हैट्रिक लेकर इतिहास रच दिया।

वह घरेलू क्रिकेट में उत्तराखण्ड के लिए हैट्रिक लेने वाले पहले खिलाड़ी बन गए हैं। मयंक की शानदार गेंदबाजी के बदौलत उत्तराखण्ड सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी में पहली जीत हासिल करने में कामयाब रहा। उत्तराखण्ड ने अपने चौथे मुकाबले में गोवा को 8 विकेट से हराया। गोवा ने उत्तराखण्ड को 120 रनों का लक्षय दिया था।

उत्तराखण्ड ने टॉस जीतकर गोवा को बल्लेबाजी का न्योता दिया। उत्तराखण्ड के गेंदबाजों ने कप्तान तन्मय श्रीवास्तव के फैसले को दूसरे ओवर में सही साबित कर दिया। आकाश मधवाल ने राजाशेखर हरिकांत को शून्य पर पवेलियन भेज दिया। गोवा जब तक पहले विकेट के झटके से उभर पाता मयंक मिश्रा के स्पैल ने ड्रेसिंग रूम में सनसनी फैला दी। मयंक ने अपने दूसरे ओवर में हैट्रिक हासिल की और इतिहास रच दिया। उन्होंने अपने दूसरे ओवर की तीसरी गेंद पर आदित्य कौशिक ( 4 रन),चौथी गेंद पर अमित वर्मा (शून्य) और पांचवी गेंद पर सुयांश प्रभुदेसाई को शून्य पर पवेलियन भेज इतिहास रच दिया।

मयंक ने अपने 4 ओवर में 4 विकेट हासिल किए और केवल 6 रन दिए। इसके अलावा उत्तराखण्ड के लिए गेंदबाजी में सन्नी राणा और राशिल शाह ने 2-2 विकेट हासिल किए। गोवा की ओर से बल्लेबाजी में स्नेल ने सबसे ज्यादा 57 रनों की पारी खेली।

लक्ष्य का पीछा करने उतरी उत्तराखण्ड की शुरुआत अच्छी नहीं रही। दीक्षांशु नेगी 5 रन पर पवेलियन लौट गए। लेकिन इसके बाद करणवीर कौशल 35, तन्मय श्रीवास्तव 49* और सौरभ रावत की 31* रनों की पारी ने उत्तराखण्ड को 8 विकेट से जीत दिला दी। टूर्नामेंट में उत्तराखण्ड की यह पहली जीत है।

हैट्रिक के बाद हल्द्वानी लाइव ने मयंक से बात की। मयंक ने कहा कि टीम के लिए अच्छा प्रदर्शन करना हर वक्त सुकून देता है। मेरी हैट्रिक ने टीम को पहली जीत दिलाई, इससे अच्छा कुछ नहीं हो सकता है। उम्मीद करता हूं कि हम इस जीत का फायदा आने वालों मैचों में उठाएंगे।