देहरादून: स्कूल परिसर में 10वीं की छात्रा से गैंगरेप की घटना सामने आने से राज्य में सनसनी

स्कूल प्रशासन पर लगा मामले को दबाने का आरोप, 9 लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार

550

देहरादून: स्कूल को शिक्षा का मंदिर कहा जाता है, जहां छात्र को अपने जीवन में आगे बढ़ने व समाज को साथ लेकर चलने की शिक्षा मिलती है। लेकिन आज के इस कलयुग में यह बातें केवल नाम की रह गई है।शिक्षक को गुरू का दर्जा दिया जाता है जो अपने छात्रों को बुरे प्रभाव से बचाता है, वहीं उनके भविष्य के साथ खिलवाड़ कर रहा है। ऐसा हम नहीं देहरादून बोर्डिंग से सामने आ रहे गैंगरेप के मामला बोला रहा है।

राजधानी के इस मामले ने पूरे राज्य के रोंगते खड़े कर दिए है। पीडित ने इस बारे में स्कूल प्रशासन को कई बार बताना चाहा लेकिन वो बच्ची को इंसाफ दिलाने की बजाए चुप रहने को कहता रहा। जब बात मीडिया के पास पहुंची तो सामने आया कि पीडित छात्रा गर्भवति है और स्कूल प्रशासन उसका गर्भपात करवा रहा था।

मामले के प्रकाश में आने के बाद स्कूल के प्रिंसिपल जीतेंद्र शर्मा और डायरेक्टर लता गुप्ता सहित नौ लोगों को गिरफ्तार किया गया है। बताया जा रहा है किअगस्त महीने में स्कूल परिसर में ही गैंगरेप किया गया था। चारों आरोपी स्कूल के छात्र हैं और नाबालिग हैं। स्कूल की आया मंजू को भी इस मामले में गिरफ्तार किया गया है।

घटना के बाद लड़की ने स्कूल प्रबंधन को घटना की जानकारी दी, लेकिन उन्होंने आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई करने की बजाय मामले को दबाने की कोशिश की। लड़की के गर्भवती हो जाने के बाद मामला सामने आया है, हालांकि प्रबंधन ने लड़की का जबरन गर्भपात कराने का भी प्रयास किया। पुलिस द्वारा मीडिया को दी गयी जानकारी के अनुसार चारों आरोपी नाबालिग हैं और उन्हें जुवेनाइल जस्टिस कोर्ट में पेश किया जायेगा।
जब मामले का खुलासा हुआ तो पूरे इलाके में हड़कंप मच गया। जानकारी के मुताबिक, दो सगी बहनें दून के ग्रामीण इलाकों में एक बोर्डिंग स्कूल में पढ़ाई कर रही थी। वहीं, कुछ छात्रों ने एक बहन के साथ गैंगरेप किया। इतना ही नहीं आरोपियों ने पीड़ित लड़की को धमकी भी दी। हाल ही में पीड़ित की तबीयत बिगड़ गई, तो उसने अपनी बड़ी बहन से सारी सच्चाई बताई।