ना सचिन ना ही ब्रेडमैन, केवल पहाड़ के पांडे जी को क्रिकेट ने दिया ये अनोखा नाम

2337

नई दिल्ली: उत्तराखण्ड बागेश्वर के रहने वाले मनीष पांडे दूसरे टी-20 मैच के बाद से सुर्खियों में है। पहले टी-20 में 27 गेंदों में 29 रनों की पारी खेलने पर सोशल मीडिया पर लोगों ने उनकी खूब आलोचना की लेकिन पांडे ने उसका जवाब अपने बल्ले से दिया। दूसरे मैच में 79 रनों की शानदार पारी ने पहाड़ के मनीष पांडे को क्रिकेट की दुनिया में एक नया नाम दे दिया है। उनको ‘मिस्टर स्लो’ कहने वाले अब उन्हें दक्षिण अफ्रीका में मिस्टर नॉटआउट कहे जाने लगे हैं।

Image result for मनीष पांडे मिस्टर नॉट आउट

मनीष ने सेंचुरियन में 48 गेंदों पर नाबाद 79 रन से टीम इंडिया में कम से कम टी-20 में अगले कुछ मैचों में जरूर अपनी जगह को पक्की कर लिया है। सेंचुरियन में पांडे बहुत ही ज्यादा दबाव के साथ उतरे थे। और उन्होंने इस शानदार पारी से इसे दूर किया। वहीं पहले मैच में उनका 107.40 के स्ट्राइक रेट था। पांडे को लोग ‘मिस्टर स्लो’ कहने लगे। इसकी वजह ये भी है कि पांडे का घरेलू क्रिकेट में औसत भले ही शानदार हो लेकिन उनकी रन बनाने की गति काफी स्लो रही है।

साल स्ट्राइक रेट
2018 108.33
2016-17 नहीं खेले
2015 78.72
2014 109.21
2013 107
पांडे भी इस बात को जानते थे और उन्होंने सेंचुरियन में इसे बदलने की ठान लिया। उन्होंने अपनी ताबड़तोड़ पारी के बदौलत अपने नाम को मिस्टर स्लो से मिस्टर नॉटआउट करवा दिया। और दक्षिण अफ्रीकी जमींन में उनका खेल भी यही बताता है कि वो मिस्टर नॉट आउट कहलाने के हकदार हैं।

आईपीएल 2009 (आरसीबी के लिए): 2*, 114*, 48, 4

त्रिकोणीय सीरीज (भारत ए के लिए, 2017): 55, 41*, 86*, 93*, 32*

टी-20 सीरीज (2018): 29*, 79*

बता दें कि सेंचुरियन का यह वो ही मैदान है जहां पर पांडे ने बतौर भारतीय पहला टी-20 शतक जमाया था। साल 2009 के आईपीएल सीजन दो में पांडे ने आरसीबी के लिए खेलते हुए 114 रनों की नाबाद पारी खेली थी। उस वक्त तक भारत के लिए कोई लीग या कोई इंटरनेशनल मैच में टी-20 में किसी खिलाड़ी ने शतक नहीं जमाया था। वहीं भारत के लिए टी-20 में पहला इंटरनेशनल शतक सुरेश रैना ने नाम है। उन्होंने 2010 वर्ल्ड टी-20 में साउथ अफ्रीका के खिलाफ शतक जमाया था।