इस अधिकारी में कुछ तो बात है, 17 किलोमीटर पैदल चलकर गांव पहुंचे डीएम मंगेश

इस अधिकारी में कुछ तो बात है, 17 किलोमीटर पैदल चलकर गांव पहुंचे डीएम मंगेश

देहरादून: वैसे तो हर किसी के ड्यूटी ही सबसे बड़ी जिम्मेदारी होती है। कई मौकों पर हम देखते ही ऑफिसर रैंक के लोग अपने जूनियर्स पर जिम्मेदारी का बोझ डाल देते हैं और अपना कंफर्ट जोन में रहना पसंद करते हैं। यह हमारे देश में चलता रहता है। लेकिन कुछ अधिकारी ऐसे भी होती हैं जो अपने काम से पीढ़ी को प्रेरित करते हैं। अपने काम से उन्हें रास्ता दिखाते हैं और सैंकड़ों लोग उन्हें अपना आदर्श भी मानते हैं। ऐसे ही अधिकारियों की सूची में शामिल हैं टिहरी के डीएम मंगेश घिल्डियाल। कुछ दिन पहले ही उन्हें पीएमओं में अहम जिम्मेदारी मिली है। 2012 बैच के आईएएस अफसर घिल्डियाल राज्य के लोकप्रिय अधिकारियों में से हैं। रुद्रप्रयाग में जिलाधिकारी रहते हुए केदारनाथ पुनर्निर्माण कार्यों में उनकी सक्रिय भूमिका रही। पीएम नरेंद्र मोदी ने भी उनकी तारीफ की थी। टिहरी के जिलाधिकारी के तौर पर कोरोनाकाल में प्रभावी भूमिका के लिए वह काफी चर्चित रहे हैं। लेकिन अभी वह किसी अन्य वाक्ये को लेकर सुर्खियों में हैं।

This image has an empty alt attribute; its file name is HALDWANILIVE-scaled.jpg

टिहरी जिले के सीमांत गांव गंगी में आपदा के चलते नुकसान हुआ था और उसका जायजा लेने के लिए डीएम मंगेश घिल्डियाल पहाड़ी रास्तों पर 17 किमी की पैदल गांव पहुंचे। उनके गांव पहुंचने पर पूरा गांव हैरान हो गया। बता दें कि 10 अगस्त को बारिश से भारी नुकसान हुआ था। गांव के बीचों बीच बहने वाला गदेरा उफान पर आने से दस लोगों के मकान आंशिक रूप से क्षतिग्रस्त हो गए थे। तीन गोशाला ढहने से 15 पशु भी मलबे में दबकर जिंदा दफन हो गए थे।  पेयजल लाइन, घराट, संपर्क मार्ग भी क्षतिग्रस्त हो गए थे। निर्माणाधीन 20 किमी घुत्तू-रीह-गंगी सड़क मार्ग भी आपदा से क्षतिग्रस्त होकर जुलाई से यातायात के लिए बाधित है।

डीएम मंगेश घिल्डियाल ने ग्रामीणों से बात की और उनकी परेशानी भी सुनी। बारिश के चलते नुकसान के बारे में ग्रामीणों ने उन्हें अवगत कराया। ग्रामीणों ने आपदा से क्षतिग्रस्त हुए रास्तों, पैदल पुलों और विद्यालय भवन का जल्द निर्माण करने की मांग उठाई। डीएम ने पीएमजीएसवाई के अधिकारियों को तीन माह से यातायात के लिए बंद पड़ी घुत्तू-रीह-गंगी सड़क जल्द खोलने के निर्देश दिए।

Join WhatsApp Group & Facebook Page

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा WhatsApp Group ज्वाइन करें।
Join Now

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा Facebook Page लाइक करें।
Like Now