देश के सबसे बड़े बैंक से विश्व बैंक के बड़े पद पर पहुंची देवभूमि की अंशुला कांत

नई दिल्ली: विश्व बैंकिग संगठनों में भारतीय महिलाओं का रुतबा और दबदबा लगातार बढ़ रहा है। भारत के सबसे सरकारी बैंक भारतीय स्टेट बैंक (SBI) की मैनेजिंग डायरेक्टर अंशुला कांत को वर्ल्ड बैंक का मैनेजिंग डायरेक्टर और चीफ फाइनेंशियल ऑफिसर (MD & CFO) नियुक्त किया गया है। वर्ल्ड बैंक के प्रेसिडेंट डेविड मालपास ने अंशुला कांत की नियुक्ति की जानकारी दी। अंशुला कांत मूल रूप से उत्तराखंड के रुड़की जिले की रहने वाली हैx।

अंशुला कांत की नियुक्ति पर वर्ल्ड बैंक के प्रेसिडेंट डेविड मालपास ने कहा कि अंशुला कांत के पास बैंकिंग सेक्टर में 35 साल का अनुभव है। स्टेट बैंक ऑफ इंडिया को सीएफओ के तौर पर उन्होंने शानदार काम किया है। मैं उनका विश्व बैंक में स्वागत करता हूं। उनके साथ काम करने के लिए मैं और मेरी टीम तैयार हैं। हम सभी उन्हें बेहतर आउटपुट प्राप्त करने में मदद करेंगे। मालपास के मुताबिक सीएफओ कांत रिस्क मैनेजमेंट और फाइनेंशियल रिपोर्टिंग के मामले में वर्ल्ड बैंक सीईओ के साथ मिलकर काम करेंगी।

अंशुला कांत वर्ल्ड बैंक ग्रुप के फाइनेंशियल और रिस्क मैनेजमेंट की जिम्मेदारी संभालेंगी। वर्ल्ड बैंक के प्रेसिडेंट मालपास ने कहा कि यह खुशी की बात है कि अंशुला कांत के रूप में विश्व की सर्वोच्च बैंकिंग संस्था को एक ऐसी शख्सियत मिल रही है जिसका फायदा न केवल बैंक को होगा बल्कि दुनिया के दूसरे देशों को भी होगा। यहां पर अंशुला कांत रिस्क, ट्रेजरी, फंडिंग जैसे ऑपरेशन संभालेंगी।

अंशुला कांत मूल रूप से उत्तराखंड के रुड़की जिले की रहनी वाली है। उन्होंने दिल्ली के लेडी श्रीराम कॉलेज फॉर वुमन से इकोनॉमिक ऑनर्स में ग्रेजुएशन किया है।इसके बाद उन्होंने दिल्ली स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स से अर्थशास्त्र में पोस्ट ग्रेजुएट की डिग्री हासिल की। पिछले साल 6 सितंबर, 2018 को अंशुला कांत को भारतीय स्टेट बैंक (SBI) का प्रबंध निदेशक (MD) की जिम्मेदारी मिली। इससे पहले वो एसबीआई की उप प्रबंध निदेशक और सीएफओ के पद पर थी। अंशुला कांत देश के सबसे बड़े सार्वजनिक बैंक एसबीआई के फाइनेंशियल मैनेजमेंट को और बेहतर बनाने के लिए विख्यात है। उन्हें बैंकिंग सेवा में तकनीक के बेहतर इस्तेमाल के लिए भी जाना जाता है। वे लीडरशिप की चुनौतियों का सामना करने में निपुण हैं।