देहरादून: पाकिस्तान विश्वभर में अमन की बात करता है। भारत के साथ संबंधों को नई राह देने की बात करता है लेकिन उसकी कथनी और करनी में अंतर हैं। एक बार फिर पाकिस्तान ने सीजफायर का उल्लंघन किया है। जम्मू-कश्मीर में एलओसी हुई गोलीबारी में उत्तराखण्ड के बागेश्वर ग्राम पालनीकोट  के रहने वाले 18 जैक राइफल यूनिट के सिपाही शुभम थापा गोली लगने से घायल हो गए। देश की रक्षा के लिए ऐसा जूनून सवार था कि उन्होंने हार नहीं मानी और घायल शुभम ने पाक सेना काे मुंहतोड़ जवाब दिया। उन्होंने घायल होने के बाद भी पाकिस्तान की दो पोस्टों को तबाह किया है। उत्तराखण्ड के शुभम का सेना के कमान अस्पताल उधमपुर में उपचार चल रहा है। 

खबर के अनुसार एलओसी पर पलांवाला सेक्टर के गांव बरडोह और बटल को निशाना बनाते हुए पाकिस्तानी सेना की ओर से सोमवार सुबह साढ़े सात से साढ़े आठ बजे तक भारी गोलाबारी की। पलांवाला के केरी क्षेत्र में हो रही गोलीबारी में शुभम थापा अलावा उनके साथी मो. आरिफ शफी और आलम खान पठान घायल हो गए । जवाबी कार्रवाई में शुभम ने पाकिस्तान की दो पोस्टें तबाह हो कर दी। घायल जवानों को एयरलिफ्ट कर सेना के कमान अस्पताल उधमपुर में लाया गया जहां  जहां दोनों सैनिकों ने दम तोड़ दिया। मो. आरिफ शफी और आलम खान पठान गुजरात के रहने वाले थे, जिनका सैन्य सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया।

कैसी है शुभम थापा की हालात!

शुभम थापा का उधमपुर के सैन्य हॉस्पिटल में इलाज चल रहा है और बताया जा रहा है कि वो खतरे से बाहर हैं। मोहल्ला पालनीकोट निवासी सुरेंद्र सिंह थापा के पुत्र शुभम थापा 18 जैक राइफल यूनिट में सिपाही हैं। शुभम ने मिशन इंटर कॉलेज से 12वीं की है। इस बारे में उनके परिवार को सूचना दी गई और फिर शुभम की बहन गीतांजलि हॉस्पिटल पहुंची। बेटी के सेना के अस्पताल जाने के बाद ही उन्हें बेटे को गोली लगने के बारे में पता लगा। परिजनों ने बताया कि शुभम के कंधे और पैर में लगी गोली निकाल ली गई है और वो जल्द ठीक हो जाएंगे।

Join WhatsApp Group & Facebook Page

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा WhatsApp Group ज्वाइन करें।
Join Now

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा Facebook Page लाइक करें।
Like Now