सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने जीता ग्रामीणों का दिल, कहा उत्तराखंड की टोपी मेरी अपनी पहचान

7

देहरादूनः लोकसभा चुनाव से पहले केंद्र सरकार ने अपना बजट पारित किया। जिसके बाद लगभग हर वर्ग ने बजट पर अपनी खुशी जाहिर करी, जिसके बाद उत्तराखंड सरकार के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने अपने सचिवालय से बजट पर खुशी जाहिर करते हुए बजट को आम जनता के हित में बताया । साथ ही बताया कि बजट को गरीब , किसानों , मजदूरों , महिलाओं , और कर्मचारीयों जैसे सभी वर्गों को जगह दी गई है। मुख्यमंत्री ने किसान सम्मन निधि का जिक्र करते हुए बताया कि उत्तराखंड में लगभग 92 प्रतिशत किसानों को इसका लाभ मिलेगा । जिससे हर किसान की आय दोगुनी करने में काफी मदद मिलेगी । किसान सम्मान निधि से हर किसान के जनधन खातों की सार्थकता भी दिखाई देगी।

जंगली जानवरों से पॉलीहाउस देगा नैनीताल के किसानों को आराम, जानें पूरी खबर

मुख्यमंत्री ने बताया कि 5 लाख की इनकम पर नो टैक्स से पता चलता है कि मोदी सरकार हर वर्ग के लिये बजट में कुछ ना कुछ लाई है। साथ ही बताया कि महंगाई और वित्तीय घाटे को कम करने के साथ बुनियादी ढांचे को भी विकास की दिशा में तीव्र प्रगति दी जा रही है ।

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने सचिवाल में आयोजित कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने उत्तराखंड की टोपी को लेकर भी बात करी ओर कहा कि यह टोपी उत्तराखंड के नागरिकों के सम्मान को दर्शाने के लिए एक नया प्रयास है। इस टोपी को उत्तराखंड के हथकरघा उद्योग से उत्पन्न रेशम के कपड़े पर ऐंपण कला, राज्य पक्षी मोनाल, राज्य वृक्ष बुराश, कुमाऊं रेजीमेंट और गढ़वाल राइफल के रंगों से प्रेरणा लेकर तैयार किया गया है। इस टोपी को ग्राफिक एरा पर्वतीय विश्वविद्यालय के फैशन डिजाइन विभाग के विद्यार्थियों ने अपने ब्राड ‘स्वयं’ के अंतर्गत तैयार किया है। साथ ही उन्होंने कहा कि टोपी किसी भी देश, राज्य अथवा क्षेत्र के लोगों की पहचान और सभ्यता को दर्शाती है। टोपी सम्मान एवं संस्कार का प्रतीक है।