देहरादून: लॉकडाउन हर कोई घर के अंदर बंद हैं लेकिन कोरोना वायरस को लेकर वो तमाम जानकारी प्राप्त कर रहा है। उनकी रूचि ही कोरोना में हैं। टीवी पर न्यूज चैनल टीआरपी तोड़ रहे हैं। यूट्यूब पर भी सबसे ज्यादा इन चीजों के बारे में ही सर्च किया जा रहा है। सोशल मीडिया पर कोरोना वायरस के बारे में व रोकधाम हेतु लोग अपने सुझाव दे रहे हैं और जान भी रहे हैं। इस बीच सोशल मीडिया का इस्तेमाल भ्रम व अफवाह उड़ाने के लिए किया जा रहा है। इससे कई लोगों की छवि भी धूमिल हो रही है।

कुछ दिन पहले सितारगंज में एक व्यक्ति ने सोशल साइट्स पर जमातियों के संबंध में भड़काऊ पोस्ट डालने की शिकायत साइबर क्राइम थाने में की। साइबर क्राइम थाने की ओर से जांच के बाद पोस्ट डालने वाले के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। राजपुर रोड स्थित एक जनरल स्टोर की फोटो किसी शातिर ने शराब की होम डिलीवरी के लिए सोशल साइट्स पर डाल दी। जनरल स्टोर मालिक ने इसकी शिकायत साइबर क्राइम थाने में की। इस मामले में अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है।

वहीं प्रदेश में 1517 ऐसे फेसबुक पेज चल रहे हैं जिनके खिलाफ शिकायत की जा चुकी है। साइबर सेल पुलिस ने इस सभी पेजों को बंद करने की सिफारिश फेसबुक से की है।  हर मिनट कोरोना से संबंधित 8500 संदेश वायरल हो रहे हैं।  अगर इनका इस्तेमाल सकारात्मक जानकारी के लिए किया को बात अलग थी लेकिन यह तो नफरत फैलाने वाले संदेश पोस्ट कर रहे हैं। इस मामले को गंभीरता से लेते हुए साइबर सेल द्वारा दो टीम का गठन किया गया है। ऑनलाइन सेल के नाम पर लोगों से ठगी करने वालों की जांच कर रही है और दूसरी टीम सोशल मीडिया पर भड़काऊ पोस्ट करने वालो की जांच कर फेसबुक के पास भेज रही है।

यह वक्त समझदारी से काम लेने का है लेकिन कुछ लोग इसे समझने के लिए तैयार नहीं है। वो फेसबुक, वाट्सएप और ट्विटर पर तमाम भड़काऊ व फेक मैसेज पोस्ट कर रहे हैं। पुलिस की साइबर क्राइम सेल ऐसे लोगों पर मुकदमा दर्ज करने के साथ उनकी निगरानी करना शुरू कर दिया है।  

Join WhatsApp Group & Facebook Page

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा WhatsApp Group ज्वाइन करें।
Join Now

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा Facebook Page लाइक करें।
Like Now