उत्तराखंड लालकुआं में युवती का अपहरण,कोतवाली के पास से उठाकर ले गए बदमाश

हल्द्वानी: राज्य अपनी शांति को लिए पूरे देश में विख्यात है। फिल्मों में देखते है कि बदमाश सरेआम अपहरण करते हैं और ऐसा कुछ उत्तराखंड में हो सकता है इसकी कल्पना शायद ही कोई कर सकता है। एक ऐसा ही मामला सामने आया है नैनीताल जिले के लालकुआं से, जहां फिल्मी अंदाज में युवती का कार सवार युवकों ने अपहरण कर लिया। यह घटना शनिवार रात की है। युवती परिजनों के साथ कोतवाली के पास सड़क पर घूम रही थी। घटना के बाद पूरे शहर में सनसनी मच गई। युवती के साथ जो सहेलियां थी उन्होंने शोर मचाया तो लोगों ने कार का पीछा किया, लेकिन अपहरणकर्ता युवती को लेकर हल्द्वानी की तरफ भाग निकले।

This image has an empty alt attribute; its file name is HALDWANILIVE-scaled.jpg

घटना के बाद मुख्य मार्ग पर लोगों की भीड़ लग गई। परिजनों और स्थानीय लोगों ने प्रदर्शन शुरू कर दिया। हालात बेकाबू होने पर पुलिस को हल्का बल प्रयोग भी करना पड़ा। घटना के दौरान युवती के साथ उसकी बहन, चाची और चचेरी बहन थी। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार यूपी नंबर की कार में आए अपरहणकर्ता युवकों ने दोनों बहनों को पकड़ने का प्रयास किया। लेकिन चुंगल में एक ही आई। जिसको लेकर वह चले गए।

खबर के अनुसार शनिवार देर रात नगर के वार्ड नंबर चार में रहने वाले आविद अली उर्फ कल्लू की 19 वर्षीय पुत्री इफरा परिजनों के साथ कोतवाली से सटी सड़क पर टहल रही थी। इसी दौरान तभी टांडा जंगल की ओर से कार रुकती है। उसमें से युवक उतरते हैं और इफरा को पकड़ कर कार में डाल दिया। घटना के बाद सहेलियों की चीखना शुरू कर दिया। जब तक किसी को कुछ समझ में आता तब तक आरोपी हल्द्वानी की ओर मुड गए। कोतवाली के पास इस तरह की कोई घटना हो सकती है ये यह कोई सोच भी नहीं सकता है। पुलिस प्रशासन की कार्यशैली पर सवाल उठाते हुए स्थानीय लोग विरोध करने के लिए सड़क पर उतर आए।

This image has an empty alt attribute; its file name is himalaya-school-haldwani.jpeg

पुलिस की कार्रवाई से नाराज लोगों ने रात 11.30 बजे राष्ट्रीय राजमार्ग जाम करने का प्रयास किया। लेकिन पुलिस की सख्ती पर वे सफल नहीं हो सके। देर रात तक कोतवाली के पास लोग जमा रहे। युवती की बरामदगी की मांग को लेकर नारेबाजी भी शुरू कर दी। स्थानीय लोगों ने कोतवाली का घेराव भी किया। लोगों का कहना है कि अपहरण के समय गेट पर पुलिस अधिकारी व कर्मचारी मौजूद थे। लेकिन पुलिस कार का पीछा करने के बजाय कोतवाली के अंदर चली गई। इस दौरान प्रदर्शनकारियों की पुलिस पर लापरवाही व देर करने का आरोप लगाते हुए कोतवाल से तीखी नोकझोंक भी हुई। करीब रात 12 बजे तक क्षेत्र में जमकर बवाल हुआ। हालांकि पूरी घटना सीसीटीवी पर कैद हुई है और उसकी मदद पुलिस जांच हेतू ले रही है।

Join WhatsApp Group & Facebook Page

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा WhatsApp Group ज्वाइन करें।
Join Now

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा Facebook Page लाइक करें।
Like Now