एक दिन में स्वाइन फ्लू के 14 मामले सामने आने से राजधानी में दहशत, एक की मौत

देहरादून:राजधानी में स्वाइन फ्लू का कहर जारी है। स्वाइन फ्लू के चलते अब तक 18 लोगों की मौत हो गई है। इसके अलावा करीब 95 मरीजों में स्वाइन फ्लू की पुष्टि हो चुकी है।  बुधवार को एक मरीज की मौत और 14 नए मामले भी सामने आने के बाद लोगों में दहशत बढ़ गई है।

जानकारी के अनुसार श्री महंत इंदिरेश अस्पताल में भर्ती 28 वर्षीय महिला मरीज की मौत हो गई। रिपोर्ट में सहारनपुर निवासी महिला मरीज में स्वाइन फ्लू की पुष्टि हुई है। इसके साथ ही स्वाइन फ्लू से मरने वालों की कुल संख्या 18 तक पहुंच गई है, जिनमें से 16 की मौत श्री महंत इंदिरेश अस्पताल में हुई।

वहीं, 14 नए मरीजों में भी स्वाइन फ्लू की पुष्टि हुई है। इनमें से छह मरीज श्री महंत इंदिरेश अस्पताल, पांच मैक्स अस्पताल, दो दून अस्पताल और एक कैलाश अस्पताल में भर्ती हैं।

स्वाइन फ्लू का वायरस सांस के जरिए शरीर में प्रवेश करता है। -यह पहले नाक, गले व फेफड़े को प्रभावित करता है। -जुकाम, खांसी, नाक से पानी आना व बार-बार छींक आने की समस्या होती है। -बुखार, गले में दर्द, सिर में दर्द, पेट में दर्द तथा उल्टी व थकान महसूस होती है।

स्वाइन इन्फ्लूएंजा एक संक्रामक सांस की रोग है जो कि सामान्य रूप से केवल सूअरों को प्रभावित करती है। यह आमतौर पर स्वाइन इन्फ्लूएंजा ए वायरस के H1N1 स्ट्रेंस के कारण होता है। हालांकि H1N2, H3N1 और H3N2 के रूप में अन्य स्ट्रेंस भी सूअरों में मौजूद रहते हैं। हालांकि लोगों में स्वाइन फ्लू होना सामान्य नहीं है, मानवीय संक्रमण कभी-कभी होते हैं, मुख्यतया संक्रमित सूअरों के साथ निकट संपर्क के बाद से।

मार्च / अप्रैल 2009 के दौरान, सूअर इन्फ्लूएंजा वायरस की एक नई स्ट्रेन मेक्सिको में उभरी, और मनुष्यों में रोग पैदा करना शुरू कर दिया। विश्व स्वास्थ्य संगठन का कहना है कि इन्फ्लूएंजा के इस नए स्ट्रेन, जिसे इन्फ्लुएंजा ए (H1N1) कहा जाता है, एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैल सकता है। दुनिया भर के विशेषज्ञों विश्व स्वास्थ्य संगठन के साथ मिलकर काम कर रहे हैं यह निर्धारित करने के लिए कि इस वायरस से जनता को क्या ख़तरा हो सकता है। ऐसा भी विचार है कि यह नया स्ट्रेन एक ह्यूमन फ्लू पैंडेमिक का कारण बन सकता है।

स्वाइन फ्लू कैसे सूअरों के बीच फैलता है? 
सूअर स्वाइन फ्लू प्राप्त कर सकते हैं अगर वे एक संक्रमित सुअर की छोड़ी गई सांस की बूंदों को अपनी साँस में खींचते हैं। उन्हें एक संक्रमित सुअर के साथ प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से संपर्क के माध्यम से भी संक्रमण हो सकता है।

संक्रमित सूअरों के लक्षण क्या हैं? 
सूअरों में स्वाइन फ्लू के लक्षण सुस्ती, बुखार, खांसी और सांस लेने में मुश्किल आदि हो सकते हैं। कुछ संक्रमित सूअर (लगभग 1 से 4%) मर सकते हैं, लेकिन अधिकतर सूअर तेजी से ठीक हो जाते हैं।

किन देशों में संक्रमित सूअर हैं?
स्वाइन इन्फ्लूएंजा दुनिया भर के सभी सुअर उत्पादक देशों में मौजूद है। सूअरों में यह साल भर फैलता रहता है। हालांकि, कई देशों में नियमित रूप से स्वाइन इन्फ्लूएंजा के लिए सूअरों को नियमित टीका देते हैं।

क्या सूअरों से निपटने के लिए कोई विशेष सावधानी बरतनी चाहिए?
हालांकि इसके कोई संकेत नहीं है कि वर्तमान मानव संक्रमण सूअरों में स्वाइन फ्लू के मामलों से जुड़े होते हैं, अधिकारियों की सलाह है कि सुअर रखनेवाले स्वच्छता के उच्च स्तर को बनाए रखें। सुअर के रखवाले अपने सूअरों में सांस की रोग के असामान्य संकेत जांचें और अगर वो चिंतित है या उन्हें सूअरों की सुरक्षा पर किसी भी सलाह की आवश्यकता होती है तो उनके पशु शल्य चिकित्सक से संपर्क करें।

किन देशों / राज्यों में इन्फ्लूएंजा ए (H1N1) के मानवीय मामले हैं?
मार्च / अप्रैल 2009 के दौरान, मेक्सिको ने गंभीर श्वसन संक्रमण वाले लोगों की संख्या में वृद्धि की सूचना दी। इन्फ्लूएंजा ए (H1N1) के साथ मानव संक्रमण की दक्षिणी कैलिफोर्निया और टेक्सास में पुष्टि की गई। तब से, विश्व स्वास्थ्य संगठन ने ब्रिटेन सहित दुनिया भर के कई देशों में इन्फ्लूएंजा एक (H1N1) के मानवीय मामलों की पुष्टि की है।

भारत में घटनायें 2009, 2010, 2012 और 2013 में 2015 में सबसे ज्यादा रही हैं, स्वाइन फ्लू के मामलों में विशेष रूप से जनवरी-फरवरी के दौरान वृद्धि हुई है और वर्तमान में मुख्य रूप से राजस्थान, गुजरात, हरियाणा, पंजाब दिल्ली, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, कर्नाटक, तमिलनाडु, तेलंगाना और आंध्र प्रदेश के राज्यों से भी रिपोर्ट मिल रही है।

मानव में इन्फ्लूएंजा एक (H1N1) के लक्षण क्या हैं?
जब लोग स्वाइन फ्लू के वायरस से संक्रमित होते हैं, तो उनके लक्षण आमतौर पर मौसमी इन्फ्लूएंजा के लोगों के समान ही होते हैं। इसमें बुखार, थकान, और भूख की कमी, खांसी और गले में खराश शामिल हैं। कुछ लोगों को उल्टी और दस्त भी हो सकती है। इन्फ्लूएंजा ए (H1N1) से संक्रमित कुछ लोगों को गंभीर रोग हुई और मर गए। बहरहाल, कई मामलों में इन्फ्लूएंजा ए (H1N1) के लक्षण हल्के रहे हैं और अधिकाँश लोग पूरी तरह ठीक भी हुए हैं।

इन्फ्लूएंजा ए (H1N1) लोगों के बीच कैसे फैलता है?
यह नया इन्फ्लूएंजा वायरस मौसमी फ्लू के सामान ही फैलता हैं; छोटी बूंदों के रूपमें, एक संक्रमित व्यक्ति की नाक और मुंह से, जब वो बात करते हैं खांसते या छींकते हैं। लोग संक्रमित हो सकते हैं अगर वो इन बूंदों को साँस में लेते हैं और वो किसी व्यक्ति या ऐसी चीज़ को छूते हैं जो कि वायरस से दूषित है (उदाहरण के लिए एक प्रयोग किया ऊतक या दरवाज़े के हैंडल) और फिर अपनी आँख और नाक को छूते हैं।अगर वे इन बूंदों को साँस लोगों को संक्रमित हो सकता है या फिर उनकी नाक या आंखों को छूने अगर वे किसी को या कुछ है कि वायरस से दूषित है (उदाहरण के लिए एक प्रयोग किया ऊतक या दरवाज़े के हैंडल) को छूने, और।