संसद में पेश हुए आंकड़े, उत्तराखंड का घोड़ाखाल सैनिक स्कूल देश में नंबर वन

घोड़ाखाल सैनिक स्कूल नंबर वन, देश को दिए सबसे ज्यादा सैन्य अधिकारी

हल्द्वानी: एक खबर पूरे उत्तराखंड का सिर गर्व से ऊंचा करेगी, क्योंकि एक स्कूल जिसकी स्थापना देश सेवा के लिए हुई थी वो अपने लक्ष्य में कामयाब हुआ है। पूरा देश स्कूल को सलाम कर रहा है। नैनीताल जिले में स्थित घोड़ाखाल सैनिक स्कूल ने पिछले 10 सालों में सबसे ज्यादा सैन्य अधिकारी दिए हैं। पिछले 10 साल से घोड़ाखाल सैनिक स्कूल से हर साल 33.4 प्रतिशत विद्यार्थी एनडीए, नेवल एकेडमी और मिलिट्री एकेडमी को ज्वाइन करते हैं। यह आंकड़ा देश के किसी भी सैनिक स्कूल से सबसे ज्यादा है।

दूसरे नंबर पर हिमाचल प्रदेश स्थित सैनिक स्कूल सुजनपुर टिहरा है, जहां का औसत 30.5 है। 24.3 प्रतिशत के साथ आंध्र प्रदेश स्थित सैनिक स्कूल कोरूकोंडा तीसरे नंबर पर है। यह आंकड़े 21 सितंबर को मिनिस्ट्री ऑफ डिफेंस द्वारा सांसद में पेश किए गए थे। बात अन्य राज्यों की करें तो हरियाणा में स्थित सैनिक स्कूल कुंजपुरा 13.8 प्रतिशत छात्रों के साथ सैन्य अकादमियों में शामिल होने के साथ 10 वें स्थान पर है, जबकि सैनिक स्कूल कपूरथला 10.9 प्रतिशत के साथ 17 वें स्थान पर है।

24 राज्यों में कुल 33 सैनिक स्कूल हैं। उनमें से उत्तर प्रदेश एकमात्र ऐसा राज्य है जहां तीन सैनिक स्कूल हैं, जबकि हरियाणा सहित सात अन्य राज्यों में प्रत्येक में दो स्कूल हैं। पंजाब में एक दूसरा सैनिक स्कूल अमृतसर के पास स्थापित होने की प्रक्रिया में है। कुछ और सैनिक स्कूल अन्य राज्यों में भी आ रहे हैं।रक्षा मंत्रालय के तत्वावधान में सैनिक स्कूल सोसायटी यह सभी स्कूल संचालित किए जाते हैं। इनका लक्ष्य छात्रों को मानसिक और शारीरिक रूप से तैयार करना है।

सभी चार राज्यों में एक मजबूत मार्शल परंपरा है और सशस्त्र बलों के लिए जनशक्ति के एक बड़े हिस्से का योगदान है। अन्य हथियारों और सेवाओं में जनशक्ति के अलावा, गढ़वाल राइफल्स, कुमाऊं रेजिमेंट, डोगरा रेजिमेंट, पंजाब रेजिमेंट, जाट रेजिमेंट, सिख रेजिमेंट और सिख लाइट इन्फैंट्री की पैदल सेना रेजिमेंट विशेष रूप से इन राज्यों का गौरव है।

बता दें कि केंद्र सरकार के साथ-साथ राज्य सरकारें इन स्कूलों को चलाने की वित्तीय जिम्मेदारी साझा करती हैं, जिसमें भूमि और बुनियादी ढांचे का प्रावधान राज्यों की जिम्मेदारी है। इन स्कूलों में प्रिंसिपल के रूप में सशस्त्र बल के अधिकारी भी तैनात हैं। इन स्कूलों के लिए अनुदान अक्सर एक मुद्दा रहा है और कई उदाहरणों में कुछ राज्य सरकारों को इस संबंध में वांछित पाया गया है। उनके बजट का एक बड़ा हिस्सा रक्षा मंत्रालय से भी आता है। आधिकारिक आंकड़ों से पता चलता है कि 2015-16 में 74.94 करोड़ रुपये से चार वर्षों में लगातार वृद्धि के बाद 2018-19 में आवंटन / उपयोग 2019-20 में 40.40 करोड़ रुपये तक गिर गया।

Join WhatsApp Group & Facebook Page

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा WhatsApp Group ज्वाइन करें।
Join Now

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा Facebook Page लाइक करें।
Like Now