वाह रे उत्तराखंड पुलिस,खाकी की तिरपाल ने रोका गरीब की छत का टपकता हुआ पानी

वाह रे उत्तराखंड पुलिस,खाकी की तिरपाल ने रोका गरीब की छत का टपकता हुआ पानी

कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया में आतंक मचा रखा है। कोरोना से लड़ने के लिए हमारी पुलिस दिन-रात एक करके लोगों की सेवा में लगी हुई है। इस माहामारी से लड़ने के लिए उत्तराखंड पुलिस हर संभव कार्य कर रही है। जब भी राज्य में कोई आपदा आती है तो उत्तराखंड पुलिस हमेशा लोगों की मदद के लिए आगे आई है। उत्तराखंड पुलिस कोरोना वायरस से लड़ने के लिए और लोगों को इस माहामारी से बचाने के लिए दिन रात एक कर रहे हैं। एक बार फिर उत्तराखंड पुलिस ने एक मिसाल पेश की है। आज हम आपको जिस खबर के बारे में आपको बताने जा रहे हैं। उसे सुनकर आपको भी उत्तराखंड पुलिस पर गर्व होगा।

बता दें कि अल्मोड़ा के चौखुटिया निवासी भुवन 15 साल बाद जब परिवार समेत दिल्ली से अपने घर आए। तो उन्होने देखा की उनके पुश्तैनी मकान की हालत खराब हो गयी थी और छत से बारिश का पानी टपक रहा था। ग्राम प्रधान की मदद से उन्होंने खीड़ा और मासी पुलिस चौकी में तैनात उत्तराखंड पुलिस के जवानों से मदद की गुहार लगाई। फिर क्या जैसा की हम सबको पता है कि उत्तराखंड पुलिस मदद करने के लिए हमेशा आगे आती है तो मासी और खीड़ा चौकी के प्रभारी फिरोज आलम और सुनील धानिक अन्य पुलिसकर्मियों के साथ गांव पहुंच गए। और भुवन की परेशानी को न केवल समझा बल्कि उनकी मदद भी की। मानवता की एक और मिसाल पेश कर ते हुए पुलिस ने मकान की छत पर खुद के खर्च से तिरपाल बिछा कर टपकते पानी को रोका। साथ ही राशन और अन्य जरूरी सामग्री भी उन्हें मुहैया करावाई। कोरोना के वजह से कई लोगों को रोजी रोटी तक नसीब हो पा रही है। ऐसे में उत्तराखंड पुलिस हमेशा उनकी मदद के लिए आगे आ रही है और उनकों राशन और जरूरी सामग्री प्रदान कर रही है।

खाकी की तिरपाल ने रोका गरीब की छत का पानी

"खाकी की तिरपाल ने रोका गरीब की छत का पानी"अल्मोड़ा के चौखुटिया निवासी भुवन 15 साल बाद जब परिवार सहित दिल्ली से अपने घर आए, तो देखा उनके पुश्तैनी मकान की जीर्ण शीर्ण हालत हो गयी थी और छत से बारिश का पानी टपक रहा था। ग्राम प्रधान की मदद से उन्होंने खीड़ा और मासी पुलिस चौकी में तैनात Uttarakhand Police के जवानों से मदद मांगी। मासी और खीड़ा चौकी के प्रभारी फिरोज आलम और सुनील धानिक अन्य पुलिसकर्मियों के साथ गांव पहुंचे और भुवन की पीड़ा को न केवल समझा बल्कि मानवता की एक और मिसाल पेश कर मकान की छत पर खुद के खर्च से तिरपाल बिछा टपकते पानी को रोका। साथ ही राशन व अन्य जरूरी सामग्री भी मुहैया कराई।

Gepostet von Uttarakhand Police am Mittwoch, 3. Juni 2020

Join WhatsApp Group & Facebook Page

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा WhatsApp Group ज्वाइन करें।
Join Now

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा Facebook Page लाइक करें।
Like Now