कोरोना होने के डर से गंगोलीहाट में व्यक्ति ने काटी गले की नस, हल्द्वानी में भर्ती

हल्द्वानी: कोरोना वायरस ना सिर्फ जान के लिए खतरा बन रहा है बल्कि मानसिक रूप से भी लोगों के परेशान कर रहा है। पिछले दिनों कई ऐसे मामला सामने आए हैं, जहां लोगों ने कोरोना वायरस होने के डर से अपनी जीवनलीला को समाप्त करने की कोशिश की है। अब इस लिस्ट में उत्तराखंड का नाम भी जुड़ रहा है।

कोरोना वायरस होने के डर के कारण उत्तराखंड के गंगोलीहाट में पशु अस्पताल में तैनात एक कर्मचारी ने अपने गले की नस काट ली। नाजुक हालात में उसे पिथौरागढ़ जिला अस्पताल लेकर पहुंचे, लेकिन डॉक्टरों ने उसे हल्द्वानी रेफर कर दिया।

खबर के मुताबिक लोहाघाट निवासी पशु चिकित्साकर्मी जीवन सिंह(45) रोज की तरह मंगलवार को भी अस्पताल गया था। वह पिछले तीन दिनों से गले में दर्द होने की शिकायत बता रहा था। परिजनों का कहना है कि वह बार-बार कोरोना होने की बात बोल रहा था। हॉस्पिटल में चैकअप कराने के बाद वह मंगलवार शाम को वह घर आया और अचानक खुद को कमरे में बंद कर लिया। इसके बाद जीवन ने अपने गले की नस काट ली। उसकी चीख सुनकर घरवालों ने उसे तुरंत अस्पताल में भर्ती कराया। पुलिस का कहना है कि इलाज चल रहा है। उसकी हालत अभी गंभीर बताई जा रही है। जांच होने के बाद ही पूरा माजरा सामने आ पाएगा। उत्तराखंड में कोरोना वायरस के 7 मामले सामने आ गए हैं।

भले ही कोरोना वायरस की दवाई सामने नहीं आया है लेकिन कई लोग इस बीमारी को मात देने में कामयाब हुए हैं। हम सभी को हिम्मत से काम लेने की जरूरत है। घर के अंदर रहकर हम इस अपने देश को बचाने में सहयोग कर सकते हैं। वहीं हमें कोशिश करनी होगी कि कोरोना वायरस के विषय पर सही जानकारी हासिल करें। यह बात कई मनोचिकित्सक बोल चुके हैं।

Join WhatsApp Group & Facebook Page

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा WhatsApp Group ज्वाइन करें।
Join Now

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा Facebook Page लाइक करें।
Like Now