बड़ी खबर: चौकाने वाला खुलासा, पाकिस्तान में सुनाई देती है रुद्रपुर से चोरी हुए मोबाइल्स की घंटी

1763

रुद्रपुर: पाकिस्तान का नाम सामने आते ही सबसे पहला सवाल सुरक्षा पर खड़ा होता है। जिस देश ने विश्व में आतंक के नाम पर अपनी पहचान बनाई हो उसे कोई भी दूर-दूर सबंध नहीं चाहता है। ऊधमसिंह नगर से आ रही खबर ने सभी को हिलाकर रख दिया है। पुलिस ने खुलासा किया है कि उत्तराखण्ड से चोरी किए गए फोन पाकिस्तान जाते थे। इस मामले में पुलिस ने मोबाइल चोर गिरोह के तीन चोरों को गिरफ्तार किया है, वहीं तीन फरार बताए जा रहे हैं। ऊधमसिंह नगर पुलिस नेकब्जे से 19 मोबाइल सहित 40 हजार की नगदी चोरी का सामान बरामद किया है।

बता दें कि 18 जुलाई की रात आई 10 कार से आए चोरों ने बाजार स्थित एचबी इंटर प्राइजेज की दुकान से लाखों रूपये के मोबाइल पार कर दिए। पुलिस शुक्रवार को इस मामले का खुलासा किया। पुलिस ने इस मामले में दिल्ली और गाजियाबाद के तीन आरोपियों को हिरासत में लेते हुए चोरी किए गए मोबाइल बरामद कर लिए हैं। पुलिस का चौकाते हुए खिलासा किया कि यह गिरोह भारत से चोरी किए गए मोबाइल को पाकिस्तान में बेचता था। यह सारा खेल उन व्यापारियों के बूते किया जा रहा था जो व्यापार के सिलसिले में भारत पाकिस्तान आते जाते रहते थे।  घटना का खुलासा करते हुए एसएसपी डा.सदानंद दाते ने बताया कि घटना के खुलासे के लिए  सर्विलांस ने अहम भूमिका निभाई। इस टीम की अगवाई एसआई जसविंदर सिंह कर रहे थे। लोकेशन ट्रेस होते ही पुलिस ने 9 अगस्त को पुलिस की टीम गाजियाबाद इस्लाम नगर गंदा नाला मोती मस्जिद के पास रईस अहमद पुत्र खचेड़ा को चोरी के मोबाइल के साथ पकड़ लिया।

रईस  से मिली जानकारी के बाद पुलिस ने चोरी किए मोबाइल स्थानीय लोगों की मदद से पाकिस्तान भेजने वाले और चोरी के मोबाइल खरीदने व बेचने का कारोबार करने वाले मोहम्मद कासिम उर्फ नाटिया पुत्र मोहम्मद छिद्दन निवासी कबूतर मार्केट लाल किला दिल्ली 6 व उसके नौकर आजाद पुत्र शेख नूर अहमद निवासी कबूतर मार्केट लाल किला दिल्ली 6 को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने चोरी किए 19 मोबाइल और 40 हजार रुपये बरामद कर लिए।

पूछताछ में पुलिस को चोरों ने बताया कि मोहम्मद कासिम चोरों गिरोहों के संपर्क में था। जो मेवात हरियाणा निवासी सब्बीर अहमद के गिरोह से जुड़ा था। इस गिरोह में सईद, याकूब आदि लोग शामिल हैं। जो चोरी के मोबाइल दो से तीन हजार में खरीदते और उन मोबाइलों को गाजियाबाद के मोबल्ला इस्लामनगर के विभिन्न लोगों को देते थे। इन लोगों का व्यापार के सिलसिले में पाकिस्तान आना जाना लगा रहा था। इन्हीं के जरिये दिल्ली गेट लाहौर पाकिस्तान में अलग अलग दुकानदारों को भेज दिया जाता था। मोबाइलों को पाकिस्तान खेल कास्मेटिक के सामान की आड़ में पहुंचाया जा रहा था। ये सामान नाटिया आदि के पास आते थे और नाटिया पैसों का लेनदेन इन पाकिस्तानी लोगों से करता था। जिसमें शहबाज, नदीम, मिंटू आदि दिल्ली गेट लाहौर पाकिस्तान के साथ बैकों के जरिये पैसों का लेनदेन होता था। नाटिया ने पूछताछ में बताया कि चोरी के  अधिकांश मोबाइल दिल्ली गेट लाहौर पाकिस्तान भिजवा दिए गए हैं। इन्हीं चोरी के फोनों में पांच फोन  कस्टम विभाग अटारी बार्डर पंजाब ने अपने पास रखे हैं। जिनकी बरामदगी के लिए टीमें रवाना कर दी गई हैं। साथ मेवात हरियाणा के शेष अभियुक्तों की गिरफ्तारी के लिए टीमें रवाना की जा रही हैं। पूछताछ में यह भी पता चला कि उक्त चोरों ने देहरादून में भी चोरी कर फोन बेच हैं। आरोपियों में सब्बीर, सईद और याकूब फरार है। टीम में कोतवाल कैलाश भट्ट, एसआई कमलेश भट्ट, एसआई जसविंदर सिंह, एसआई मो.अकरम, का.अब्दुल मलिक व का.महेंद्र डंगवाल हैं। एसएसपी ने टीम को ढाई हजार रुपये इनाम की घोषणा की है।