आर्यन जुयाल के दम पर भारत ने बांग्लादेश को 34 रनों से हराया

हल्द्वानीः क्रिकेट और उत्तराखंड का एक अलग ही रिश्ता है। उत्तराखंड के खिलाड़ी हमेशा से ही क्रिकेट के मैदान पर अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाते आए हैं। ऐसा ही एक स्टार बल्लेबाज है हल्द्वानी का आर्यन जुयाल है। महज 17 साल की उम्र से ही उसने क्रिकेट के मैदान में विपक्षी टीम के छक्के छुड़ाए है। आर्यन ने अपनी बेहतरीन बल्लेबाजी का लोहा मनवाते हुए कई मैचों में टीम को एक शानदार जीत दिलवाई है। ऐसा ही एक बार आर्यन ने फिर कर दिखाया है। पहले वनडे में आर्यन के अर्धशतक के बदौलत भारतीय अंडर-23 टीम ने बांग्लादेश अंडर-23 टीम को 34 रनों से हराया।

पहले बल्लेबाजी करने उतरी टीम इंडिया की शुरुआत अच्छी नहीं रही थी। टीम ने 99 रनों पर अपने 5 बल्लेबाजों को खो दिया था। पांचवे नंबर पर बल्लेबाजी करने उतरे आर्यन जुयाल ने परिस्थिति के हिसाब से खेलना शुरू किया। आर्यन ने निचले क्रम के बल्लेबाजों के साथ भारतीय पारी को संजीवनी दी। उन्होंने 86 गेंदों में 69 रनों की पारी खेली। इस पारी में उन्होंने 2 चौके और एक छक्का लगाया। आर्यन अंतिम ओवर में आउट हुए। उस वक्त टीम का स्कोर 190 रन था। इसके अलावा बीआर साराथ 42 और माधव कौशिक ने 20 रनों की पारी खेली। निर्धारित 50 ओवर में भारतीय अंडर-23 टीम 192 रन ही बना सकी। बांग्लादेश के लिए मेहंदी हसन ने सिर्फ 29 रन देकर तीन और अबु हैदर ने 37 रन पर दो विकेट झटके। 

लक्ष्य का पीछा करने उतरी बांग्लादेश की शुरुआत भी अच्छी नहीं रही थी। पहले पांच विकेट उसने 50 रनों के भीतर खो दिए थे। इसके बाद अरीफुल हक ने 38 और मेंहदी हसन मिर्जा ने 20 रन बनाकर पारी को संभालने का प्रयास किया, लेकिन उनके आउट होते ही बांग्लादेशी टीम दबाव में आ गई और नौ विकेट खोकर 158 रन बना सकी।  भारत की ओर से शुभांग, रितिक और यशस्वी ने किफायती गेंदबाजी करते हुए दो-दो विकेट लेकर जीत में अहम भूमिका निभाई। बांग्लादेश के लिए जाकिर हसन का रिटायर होना काई नुकसानदायक रहा। 48 रन के निजी योग पर उन्हें रन लेते वक्त पैरों में खिंचाव आ गया और मुश्किल वक्त मे उन्हें पवेलियन लौटना पड़ा। यहां बांग्लादेशी टीम की जीत की संभावनाएं धूमिल हो गई। 

यह भी पढ़ेंः उत्तराखण्ड: पुलिस परेशान, सिर दर्द बनी FIR, लिखने में लगेगा एक हफ्ता

यह भी पढ़ेंः हल्द्वानी लाइवः फिर छाई CPU, पिकअप और पांच लाख रुपये

यह भी पढ़ेंः नैनीतालः बेटी ने की खुदकुशी, लेकिन घरवालों ने बेटी का शव लेने से किया इनकार

यह भी पढ़ेंः उत्तराखंडः दवा लेकर लौट रही दादी और पोते को ट्रैक्टर ने कुचला, दादी की हुई मौत