कमाल की गेंदबाजी, अपने पहले ही मैच में उत्तराखण्ड के मयंक ने सभी को छोड़ा पीछे

हल्द्वानी: विजय हजारे ट्रॉफी में लीग मुकाबले बस खत्म ही होने वाले हैं। हर ग्रुप से एक टीम नॉक आउट में प्रवेश करेगी। उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में आयोजित प्लेट ग्रुप के मुकाबलों के रोमांच को बारिश ने खराब किया । इसके बाद भी खिलाड़ियों ने अपने प्रदर्शन से प्रतियोगिता में छाप छोड़ी।

इस कड़ी में आज हम एक ऐसे गेंदबाज के बारे में बताएंगे जो करीब 7 मुकाबले बैंच पर बैठा लेकिन अपने पहले ही मैच में उसने कमाल कर दिया। ऐसा प्रदर्शन किया कि वह टूर्नामेंट में गेंदबाजी में एक पारी में बेस्ट इकोनॉमी की लिस्ट में टॉप पर पहुंच गया। हम बात कर रहे हैं उत्तराखण्ड के लेफ्ट आम स्पिनर मयंक मिश्रा की। उत्तराखण्ड ने सिक्किम को 253 रनों से हराकर रिकॉर्ड जीत हासिल की।

इस मुकाबले में मयंक ने 4.1 ओवर में 3 मेडन डाले और 2 विकेट भी लिए। इस दौरान उन्होंने केवल 2 रन दिए। पहले ही मैच में अपने प्रदर्शन से मयंक बेस्ट इकोनॉमी (0.48) गेंदबाजों ( एक पारी ) की सूची में पहले नंबर पर काबिज हैं। यह उनके मनोबल के लिए काफी अच्छा है। रुद्रपुर के निवासी मयंक मिश्रा पिछले साल भी उत्तराखण्ड के लिए घरेलू क्रिकेट खेले थे।उन्होंने पूरे सीजन 32 विकेट अपने नाम किए थे। बेस्ट इकोनॉमी गेंदबाजों की बात करें तो मयंक के बाद दूसरे नंबर पर इकबाल अब्दुल्ला हैं, जिनका मणिपुर के खिलाफ इकोनॉमी रेट 0.57 रहा था। तीसरे स्थान पर मेघायल के संजय (0.92) है।

बात प्लेट ग्रुप की करें तो पुडुचेरी 28 अंकों के साथ पहले स्थान पर हैं और उत्तराखण्ड 26 अंकों के साथ दूसरे स्थान पर है। दोनों ही टीमों के एक-एक मुकाबले बचे हुए हैं लेकिन पुडुचेरी का फॉर्म देखकर यही लगता है कोई चमत्कार ही उत्तराखण्ड को नॉक आउट में पहुंचा सकता है। उत्तराखण्ड को अपना आखिरी मुकाबला 17 अक्टूबर को चंडीगढ़ के खिलाफ खेलना है। उत्तराखण्ड को बारिश ने काफी नुकसान पहुंचा। टीम उत्तराखण्ड के तीन मुकाबले बारिश के चलते रद्द हुए नहीं तो स्थिति कुछ और हो सकती थी।